Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजन'शीर कोरमा' के लिए स्वरा भास्कर को मिला बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का अवॉर्ड, फिल्म में निभाया था लेस्बियन का रोल

'शीर कोरमा' के लिए स्वरा भास्कर को मिला बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का अवॉर्ड, फिल्म में निभाया था लेस्बियन का रोल

टीम, लाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीGarima Singh
Wed, 24 Nov 2021 08:48 PM
'शीर कोरमा' के लिए स्वरा भास्कर को मिला बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का अवॉर्ड, फिल्म में निभाया था लेस्बियन का रोल

इस खबर को सुनें

स्वरा भास्कर अक्सर विवादों के चलते ही खबरों में आती हैं। सोशल मीडिया पर हर बात को बेबाकी से शेयर करने वाली स्वरा ने अपने नए ट्वीट से हर किसी का ध्यान  खींच लिया है। दरअसल एक्ट्रेस को उनकी फिल्म 'शीर कोरमा' के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का अवॉर्ड मिला है। ये फिल्म सिर्फ देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर में काफी पसंद किया जा रहा है और इसके पीछे की वजह इस फिल्म में दिखाया गया सेंसेटिव मुद्दा है। स्वरा भास्कर की इस फिल्म की कहानी लेस्बियन जोड़े के इर्द-गिर्द बुनी गई है और स्वरा का नया ट्वीट फिल्म के लिए मिले अवॉर्ड को लेकर ही है। 

फिल्म फेस्टिवल में दिखाई गई ये फिल्म

सोहो लंदन इंडिपेंडेट फिल्म फेस्टिवल में स्वरा भास्कर की ये फिल्म दिखाई गई है और यहां पर लोगों को एक्ट्रेस की अदाकारी भा गई। इसी फिल्म फेस्टिवल में ही स्वरा को बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का अवॉर्ड मिला है।

सातवें आसमान पर पहुंची स्वरा

जैसे ही स्वरा को भनक लगी कि शीर कोरमा के लिए उन्हें ये अवॉर्ड मिला है, तो उनकी खुशी का कोई ठिकाना ही नहीं था। एक्ट्रेस ने डायरेक्टर फराज आरिफ अंसारी के ट्वीट को रिट्वीट करके हुए लिखा है, 'मैं जीत गई...अरे वाह...फराज आपका शुक्रिया जो आपने मुझ पर भरोसा किया। मारिज्के इस कहानी के लिए आपका शुक्रिया। शबाना जी और दिव्या जी शुक्रिया। आपकी वजह से मैं यहां तक पहुंच पाई हूं। ये सम्मान पाकर बहुत खुश हूं।' 

ऐसी है फिल्म की कहानी 

फिल्म में स्वरा और दिव्या दत्ता ने लेस्बियन लड़कियों का किरदार निभाया है। दोनों LGBT समुदाय पर थू-थू करने वालों के बीच रहकर भी अपने प्यार को जिंदा रखती हैं। अपने रिश्ते को अंजाम तक पहुंचाने के लिए ये दोनों अपने परिवार से भी बगावत कर लेती हैं। फिल्म में दिखाया गया है कि ऐसे रिश्तों को कबूल करने में परिवार वालों को कितनी तकलीफ का सामना करना पड़ता है। 
 

 

epaper

संबंधित खबरें