DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   मनोरंजन  ›  सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस : बिहार के बाद अब झारखंड कोर्ट में दर्ज हुआ सलमान और शाहरुख सहित छह पर मुकदमा
मनोरंजन

सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस : बिहार के बाद अब झारखंड कोर्ट में दर्ज हुआ सलमान और शाहरुख सहित छह पर मुकदमा

जमशेदपुर, संवाददाताPublished By: Amit Gupta
Sat, 20 Jun 2020 09:56 PM
सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस : बिहार के बाद अब झारखंड कोर्ट में दर्ज हुआ सलमान और शाहरुख सहित छह पर मुकदमा

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत को आत्महत्या के लिए उकसाने का मुकदमा जमशेदपुर कोर्ट में अभिनेता सलमान खान, शाहरुख खान सहित छह लोगों पर शनिवार को दायर किया गया। यह मुकदमा क्षत्रिय महासभा की ओर से पैरवी कर रहे अधिवक्ता विद्या सिंह ने दायर किया। शनिवार को मुकदमे की प्रति को अदालत के ड्रॉप बाक्स में डाला गया। सोमवार को ड्रॉप बाक्स से निकलने के बाद उसे न्यायिक प्रक्रिया के अंतर्गत लिया जाएगा और उसपर शिकायतवाद संख्या दर्ज होगी। इससे पहले इस तरह का एक मुकदमा बिहार में भी दर्ज कराया गया था। 


इन्हें बनाया गया है आरोपी : इस शिकायतवाद में फिल्म अभिनेता सलमान खान, शाखरुख खान, फिल्म निदेशक महेश भट्ठ, करण जौहर, एकता कपूर, अभिनेत्री आलिया भट्ठ को आरोपी बनाया गया है।

यह है दायर मुकदमे में
मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में दायर करने के लिए ड्रॉप बाक्स में डाली गई शिकायतवाद में अभिषेक कुमार सिंह की ओर से उनके अधिवक्ता का कहना है कि वादी अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के उपाध्यक्ष हैं। वाद में जिक्र है कि सुशांत सिंह राजपूत प्रसिद्ध अभिनेता थे और फिल्म इंडस्ट्री के बड़े अभिनेता और प्रोड्यूसर उनके काम एवं पेशा से घबरा गए थे। भविष्य में उनकी बढ़ती लोकप्रियता को रोकने के लिए सभी सुशांत के विरुद्ध षड्यंत्र रचने लगे थे। मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित करने लगे थे। अभियुक्तों द्वारा किए गए अनहोनी कार्यों से सुशांत पर मानसिक रूप से दबाव बढ़ने लगा था। उनके काम में रुकावट होने लगी थी। मजबूर होकर उन्होंने 14 जून 2020 को अपने निवास स्थान मुंबई में आत्महत्या कर ली। सुशांत सिंह राजपूत 34 वर्ष के नवयुवक और उभरते हुए कलाकार थे। एक इंजीनियर और पढ़े लिखे नौजवान होने के चलते बहुत कम समय में फिल्म इंडस्ट्री में उनकी मेहनत और कार्यशैली से उनकी लोकप्रियता इतनी बढ़ गई थी कि वरीय अभिनेता और फिल्म प्रोड्यूसर गोलबंद हो गए। सुशांत के कार्यों और उनके प्रभाव से घबराकर आरोपी एकमत होकर साजिश रचने लगे। उनसे फिल्में छीनने का भी प्रयास किया। मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत से आग्रह किया गया है कि मामले में धारा 304, 306, 120बी और 34 आईपीसी के तहत संज्ञान लेकर अपने न्यायालय में केस चलाएं। इस मामले में गवाह समरेश कुमार सिंह, राणा प्रताप सिंह, अनुराग सिंह, श्रीकांत सिंह, परशुराम सिंह एवं अन्य को बनाया गया है। साथ ही साक्ष्य के रूप में वीडियो, यूट्यूब की कॉपी और प्रकाशित समाचार को आधार बनाया गया है।

संबंधित खबरें