DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   मनोरंजन  ›  बंगाली किताब में छपी अंकिता लोखंडे संग सुशांत सिंह राजपूत की फोटो, जानिए क्या है वजह

मनोरंजनबंगाली किताब में छपी अंकिता लोखंडे संग सुशांत सिंह राजपूत की फोटो, जानिए क्या है वजह

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Radha Sharma
Sat, 08 May 2021 12:17 PM
अंकिता लोखंडे-सुशांत सिंह राजपूत
1 / 2अंकिता लोखंडे-सुशांत सिंह राजपूत
सुशांत सिंह राजपूत
2 / 2सुशांत सिंह राजपूत

बॉलीवुड दिगवंत एक्टर सुशांत सिंह राजपूत आज भले ही इस दुनिया में नहीं है लेकिन वह आज भी अपने चाहने वालों के दिलों में बसे हैं। इस बीच सुशांत से जुड़ी एक खबर सामने आई है, जिसमें ये कयास लगाए गये हैं कि सुशांत सिंह राजपूत की फोटो को बंगाल के एक स्कूल की पाठ्यपुस्तक में शामिल किया गया है।  हालांकि इस खबर में कितनी सच्चाई है इस बारे में अभी तक जानकारी सामने नहीं आई है।

 

दरअसल, सोशल मीडिया पर एक फोटो काफी वायरल हो रहा है, जिसमें बंगाल की किताब में सुशांत सिंह राजपूत और अंकिता लोखंडे की फोटो छपी है। ये तस्वीर टीवी सीरियल 'पवित्र रिश्ता' की है। इस फोटो को लेकर सोशल मीडिया पर ये दावा किया गया है कि इस तस्वीर का इस्तेमाल बंगाली किताब में बच्चों को पारिवारिक मूल्यों के बारें में बताने के लिए होगा। इस किताब की पेज पर सुशांत को एक जिम्मेदार पति के रूप में दिखाया गया है, जिसकी गोद में एक बच्चा भी दिख रहा है।

 

 

 

 

इस फोटो को एक स्मिता पारिख नाम की एक लड़की ने अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर की है। इस फोटो को शेयर करते हुए यूजर ने बंगाली भाषा में लिखा है कि दूसरी बंगाली किताब ने हमारे प्रिय सुशांत की फोटो छापी है। जिसका मकसद एक परिवार के मूल्यों को बताना है।

स्मिता पारिख ने इस फोटो को शेयर करते हुए सुशांत की बहन प्रियंका और मीतू को टैग करते हुए लिखा कि इसे देखो, मुझे सुशांत पर काफी गर्व है। इस फोटो से साफ होता है कि शिक्षा बोर्ड को भी लगता है कि सुशांत सबसे अच्छा था। बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत ने अपने करियर की शुरुआत जी टीवी के फेमस शो पवित्र रिश्ता से ही किया था। इस शो के जरिये ही वह घर-घर छा गए थे।

सुशांत सिंह राजपूत का शव बीते साल 14 जून को उनके मुंबई के बांद्रा स्थित फ्लैट में मिला था। उनकी मौत को एक साल होने वाला हैं लेकिन अभी भी उनकी मौत का सस्पेंस बना हुआ है। क्योंकि पहली नजर में इस केस को मुबंई पुलिस ने आत्महत्या करार दिया लेकिन बिहार पुलिस के हस्तक्षेप करने  के बाद यह मामला सीबीआई के पास पहुंचा, जो अभी तक किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई। 
 

संबंधित खबरें