फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजनसोनाली बेंद्रे ने किया खुलासा, 90 के दशक में अंडरवर्ल्ड के डर से कई फिल्मों से कर दिया गया बाहर

सोनाली बेंद्रे ने किया खुलासा, 90 के दशक में अंडरवर्ल्ड के डर से कई फिल्मों से कर दिया गया बाहर

सोनाली बेंद्रे 90 के दशक की चर्चित अभिनेत्री रही हैं। कैंसर को मात देने के बाद सोनाली एक बार फिर से वापसी की है। वह याद करती हैं कि कैसे 90 के दशक में बॉलीवुड में अंडरवर्ल्ड का डर कायम था।

सोनाली बेंद्रे ने किया खुलासा, 90 के दशक में अंडरवर्ल्ड के डर से कई फिल्मों से कर दिया गया बाहर
Shrilataलाइव हिंदुस्तान,मुंबईSun, 26 Jun 2022 04:00 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

सोनाली बेंद्रे 90 के दशक की चर्चित अभिनेत्री रही हैं। कुछ साल पहले उन्हें कैंसर होने का पता चला था जिसकी वजह से वह फिल्मों और अन्य कार्यक्रमों से दूर रहीं। कैंसर को मात देने के बाद एक बार फिर से सोनाली काम पर लौट आई हैं। उनकी वेब सीरीज ‘द ब्रोकेन न्यूज’ हाल ही में जी5 पर रिलीज हो गई है। सोनाली के काम की इसमें तारीफ हो रही है।  यह उनका ओटीटी डेब्यू भी है। ओटीटी ने कई कलाकारों के लिए नए रास्ते खोल दिए हैं। सोनाली याद करती हैं कि कैसे 90 के दशक में बॉलीवुड में अंडरवर्ल्ड का डर कायम था और उनको इस वजह से रोल से भी हाथ धोना पड़ा।

अंडरवर्ल्ड का होता था दवाब


सोनाली के पति गोल्डी बहल एक फिल्म निर्माता हैं। उस वक्त उनके पति ने उनकी मदद की थी। फिल्मों में आने से पहले सोनाली टीवी विज्ञापनों का एक बड़ा चेहरा बन चुकी थीं। उन्होंने 19 साल की उम्र में 1994 में फिल्म ‘आग’ से फिल्मों में कदम रखा था। ‘द रणवीर शो‘ में सोनाली ने खुलासा किया कि अंडरवर्ल्ड के दबाव में उन्हें फिल्मों से हटा दिया गया। वह कहती हैं, ‘फिल्मों में कई लोग वैध तरीके से पैसे लगा रहे थे लेकिन उस वक्त फिल्म इंडस्ट्री को आधिकारिक इंडस्ट्री का दर्जा नहीं मिला था। इसलिए बहुत सी अनियमितताएं  थीं और बैंक आपको लोन नहीं देते थे। वहां एक सीमा थी।‘ 

एक फोन से बदल जाता था सबकुछ


सोनाली ऐसे निर्माताओं से बचकर रहती थीं जो भरोसे के लायक नहीं थे। इसमें गोल्डी बहल ने उनकी मदद की। सोनाली ने बताया, ‘कई बार ऐसा होता था मुझे रोल मिलता था लेकिन बाद में किसी के फोन की वजह से वह रोल किसी और को मिल जाता था। निर्माता या  सह-कलाकार मुझे फोन करके बताते थे कि उन पर दबाव है और मैं समझ जाती थी।‘ 
 

epaper