फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजनजब शाहरुख खान ने बताया, फ्रीडम फाइटर थे उनके पिता, कहते थे- ऐ बदमाश तुम हीरो बनकर...

जब शाहरुख खान ने बताया, फ्रीडम फाइटर थे उनके पिता, कहते थे- ऐ बदमाश तुम हीरो बनकर...

शाहरुख खान एक इंटरव्यू में बता चुके हैं कि उनके पिता देश के कम उम्र के फ्रीडम फाइटर थे। आजादी के बाद वह शाहरुख खान से इस बारे में जो कहा करते थे वो शाहरुख खान को बड़े होकर समझ आया..

जब शाहरुख खान ने बताया, फ्रीडम फाइटर थे उनके पिता, कहते थे- ऐ बदमाश तुम हीरो बनकर...
Kajal Sharmaलाइव हिंदुस्तान,मुंबईMon, 15 Aug 2022 06:10 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

शाहरुख खान अपने पेरेंट्स के बारे में अक्सर बात करते हैं। वह अपनी मां को अक्सर याद करते हैं। शाहरुख एक पुराने इंटरव्यू में दावा कर चुके हैं कि उनके पिता ताज मोहम्मद खान स्वतंत्रता सेनानी थे। शाहरुख खान ने बताया था कि उनके पिता देश के सबसे कम उम्र के फ्रीडम फाइटर्स में से थे। उस वक्त उनकी उम्र 15 साल थी। इतना ही नहीं देश की आजादी के बारे में शाहरुख के पिता ने कुछ बताया था। शाहरुख उस वक्त उसे अंग्रेजों से आजादी समझते थे लेकिन बाद में उन्हें इसका मतलब कुछ और समझ आया था। 

कैंसर से हुआ था शाहरुख के पिता का निधन

शाहरुख खान के पिता पेशावर से भारत आए थे। शाहरुख जब 15 साल के थे तो उनके पिता का निधन कैंसर से हो गया था। शाहरुख की मां लतीफ फातिमा खान 1990 में लंबी बीमारी के बाद गुजर गई थीं। एक इंटरव्यू में शाहरुख खान से फरीदा जलाल से पूछा था कि उनके परिवार के बड़ों का ताल्लुक देश की राजनीति से रहा है। वह आज की राजनीति पर क्या कहना चाहेंगे? इस पर शाहरुख खान ने जवाब दिया था, मेरा परिवार खासतौर पर मेरे पिता, हम सब उस वक्त (आजादी के पहले) देश की राजनीति से काफी करीब से जुड़े थे। क्योंकि मेरे पिता देश के सबसे छोटे फ्रीडम फाइटर थे औऱ जनरल शहनवाज से रिश्ता था।

पिता बोलते थे, ऐ बदमाश इधर आओ

शाहरुख ने बताया, उनके पिता कहा करते थे, ऐ बदमाश इधर आओ, ऐ उल्लू के पट्ठे, तुम अपने आपको इतना हीरो बनके घूमते रहते हो। तुम्हें अपनी आजादी को हल्के में नहीं लेना चाहिए। ये हमने तुमको दी है इसलिए इसे ऐसे ही बनाकर रखना। उस वक्त मुझे लगता था कि वह अंग्रेजों से आजादी के बारे में बात कर रहे हैं लेकिन अब बड़ा होकर मैं समझता हूं कि इस आजादी से उनका मतलब गरीबी से था शायद दुख से आजादी था।

epaper