फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजननॉर्थ वर्सेज साउथ विवाद को आर माधवन ने बताया बेकार, बताया क्यों हिट हुईं पुष्पा, केजीएफ और आरआरआर

नॉर्थ वर्सेज साउथ विवाद को आर माधवन ने बताया बेकार, बताया क्यों हिट हुईं पुष्पा, केजीएफ और आरआरआर

'रॉकेट्री: द नम्बि इफेक्ट' (Rocketry : The Nambi Effect)के एक इवेंट के दौरान आर माधवन ने कई सवालों के बेबाक अंदाज में जवाब दिए और बातचीत के दौरान ही उन्होंने साउथ वर्सेज नॉर्थ विवाद पर भी रिएक्ट किया।

नॉर्थ वर्सेज साउथ विवाद को आर माधवन ने बताया बेकार, बताया क्यों हिट हुईं पुष्पा, केजीएफ और आरआरआर
Avinash Singhहिन्दुस्तान,मुंबईFri, 24 Jun 2022 09:09 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

पैन इंडिया एक्टर आर माधवन (R Madhavan) इन दिनों फिल्म 'रॉकेट्री: द नम्बि इफेक्ट' (Rocketry : The Nambi Effect) को लेकर खूब चर्चा में बने हुए हैं। 'रॉकेट्री: द नम्बि इफेक्ट' के पोस्टर्स और ट्रेलर्स को सोशल मीडिया पर काफी अच्छा रिस्पॉन्स मिला है और सभी फिल्म की रिलीज का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। हाल ही में 'रॉकेट्री: द नम्बि इफेक्ट' के एक इवेंट के दौरान आर माधवन ने कई सवालों के बेबाक अंदाज में जवाब दिए और बातचीत के दौरान ही उन्होंने साउथ वर्सेज नॉर्थ विवाद पर भी रिएक्ट किया। 

नॉर्थ साउथ सिनेमा विवाद को माधवन ने बताया बेकार
साल 2022 में एक ओर जहां सिर्फ गंगूबाई काठियावाड़ी, द कश्मीर फाइल्स और भूल भुलैया 2 की बॉक्स ऑफिस पर अच्छा परफॉर्म कर पाईं तो दूसरी ओर आरआरआर, केजीएफ चैप्टर 2 और पुष्पा ने तो हिंदी बेल्ट में रिकॉर्ड तोड़ कमाई की। जिसके बाद से नॉर्थ वर्सेज साउथ सिनेमा को लेकर एक बार फिर बयानबाजी तेज हो गई। इस बारे में माधवन से पूछा गया तो उन्होंने इसे बेकार बताया। माधवन बोले, 'इस बारे में विश्लेषण करना ही बेकार है, क्योंकि अगर आप सोचते हैं कि सक्सेस का कोई तय नियम है, तो आप सब कुछ खो देंगे क्योंकि हर दिन चीजें बदल रही हैं।'

मतलब ये नहीं कि हिंदी फिल्में काम नहीं करेंगी...
माधवन ने आगे कहा, 'मुझे उम्मीद है कि आने वाले दिनों में अलग तरह की फिल्में आएंगी और फिर कोई एक अलग पैटर्न सेट हो जाएगा। मुझे नहीं लगता कि हम इस बारे में तय कर सकते हैं कि दर्शक कैसे रिएक्ट करेंगे।'माधवन ने बातचीत में आगे कहा, 'बाहुबली, आरआरआर, केजीएफ, पुष्पा या कुछ और साउथ फिल्मों ने हिंदी से अधिक कमाई की है तो इसकी वजह है कि इनकी फैन फॉलोइंग पूरे देश में है और ये वाकई बड़े स्तर पर बनाई गई। लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि हिंदी फिल्में काम नहीं करेंगी। गंगूबाई से लेकर कश्मीर फाइल्स और भूल भुलैया 2 तक ने भी अच्छी कमाई की है।'

कोविडकाल में लोगों की सोच सिनेमा के प्रति बदली...
आर माधवन मानते हैं कि कोरोनाकाल ने सिनेमा के लिए लोगों की सोच बदल दी है। माधवन ने कहा, 'मुझे ऐसा लगता है कि कोविडकाल में लोगों की सोच सिनेमा के प्रति बदली है। कोविडकाल के बाद, लोगों का धैर्य और सहनशीलता काफी कम हो गया है। जैसे अब स्क्रीनप्ले में पेस नहीं है, तो ये काम नहीं करेगा।' साउथ स्टार्स को लेकर माधवन कहते हैं, 'इन सेलेब्स ने काफी मेहनत की है, जैसे आरआरआर में सभी ने, पुष्पा में अल्लू ने, जो एक बड़े एक्टर हैं, लेकिन एक दम अपने किरदार में फिट हुए हैं। इन सेलेब्स ने इन फिल्मों के लिए कुछ महीने नहीं बल्कि सालों मेहनत की है, जिसका ये नतीजा है।'

नंबी नारायणन बने आर माधवन
'रॉकेट्री: द नम्बि इफेक्ट' को लेकर माधवन ने कहा कि उन्होंने इस फिल्म को 2016 में शूट शुरू किया था, और 2022 में ये फिल्म रिलीज हो रही है। बता दें कि फिल्म हिंदी के साथ ही तमिल और इंग्लिश में भी शूट हुई है, जबकि फिल्म को तेलुगू, कन्नड़ और मलयालम में भी डब करके रिलीज किया जाएगा। फिल्म 'रॉकेट्री: द नम्बि इफेक्ट' में आर माधवन साइंटिस्ट नम्बि नारायणन (Nambi Narayanan) का किरदार निभा रहे हैं। खास बात ये है कि इस फिल्म में माधवन सिर्फ बतौर एक्टर ही नजर नहीं आएंगे। बल्कि उन्होंने इस फिल्म का निर्देशन भी किया है। ऐसे में ये फिल्म माधवन के लिए भी काफी खास हो जाती है। फिल्म एक जुलाई को रिलीज होगी।
 

epaper