DA Image
Saturday, November 27, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजन‘रोडीज’ और ‘बिग बॉस’ जीतकर स्टार बने थे आशुतोष कौशिक, लाइमलाइट से दूर अब चला रहे ढाबा

‘रोडीज’ और ‘बिग बॉस’ जीतकर स्टार बने थे आशुतोष कौशिक, लाइमलाइट से दूर अब चला रहे ढाबा

लाइव हिन्दुस्तान,मुंबईShrilata
Sat, 16 Oct 2021 04:31 PM
‘रोडीज’ और ‘बिग बॉस’ जीतकर स्टार बने थे आशुतोष कौशिक, लाइमलाइट से दूर अब चला रहे ढाबा

‘एमटीवी रोडीज 5’ और ‘बिग बॉस 2’ जीतने वाले आशुतोष कौशिक जीतनी जल्दी करियर की ऊंचाइयों पर पहुंचे उतनी ही तेजी से वह नीचे भी आ गए। वह काफी समय तक लाइमलाइट से दूर रहे। उनके लिए भी यह किसी सपने से कम नहीं था कि एक के बाद एक वह इतने बड़े रियलिटी शोज जीत गए। शो जीतने के बाद वह रातों रात स्टार बन गए हालांकि फिर वह गुमनामी की जिंदगी में चले गए।

‘लोगों ने बहुत प्यार दिया’

आशुतोष कौशिक मानते हैं कि उनकी यात्रा काफी अच्छी रही और लोगों का ढेर सारा प्यार मिला। हमारे सहयोगी हिन्दुस्तान टाइम्स से बात करते हुए आशुतोष कहते हैं, ‘जब मैं रोडीज जीता उस वक्त ऊंचाइयों पर था। मैंने रोडीज के कई ऑडीशन दिए और फिर रिजेक्शन झेले। फिर एक टाइम आया जब सेलेक्ट हो गया। मेरी मां ने हमेशा मुझे यह सिखाया कि कोशिश करो और मैंने किया। रोडीज का अनुभव मजेदार, मुश्किल और यादगार था। शो जीतने के बाद मैं उत्तर प्रदेश के सहारपुर अपने घर लौटा। एक साल बाद मुझे बिग बॉस का कॉल आया और मैं 2008 में रियलिटी शो का हिस्सा था। बाद में इसे भी जीता और फिर घर लौट गया। जर्नी अच्छी थी। देश के लोगों ने मुझे बहुत प्यार दिया।‘

सफलता को भुना नहीं सके

‘कहते हैं आजादी की कीमत उन्हें पता है जिन्होंने गुलामी देखी है। अगर मैंने जिंदगी में संघर्ष किया होता, खासकर मनोरंजन उद्योग में, तो मुझे समझ में आ जाता कि मुझे क्या मिला है और करियर बनाने के लिए इसे कैसे आगे बढ़ाया जाए। मैं सफलता को भुना नहीं सका। मुझे पता था कि ढाबा कैसे चलाना है और उसे कैसे सफल बनाना है।‘

'किस्मत से जीता'

आशुतोष आगे कहते हैं, ‘मुझे लगता है कि मैं इसके लिए तैयार नहीं था। मैं किस्मत की वजह से और भगवान की कृपा से रियलिटी शो जीतता रहा। मैंने वास्तव में इसके लिए काम नहीं किया था’। 

ढाबा चला रहे आशुतोष

फिलहाल आशुतोष एक खुशहाल जीवन बिता रहे हैं। 2020 में उन्होंने लॉकडाउन में घर की छत पर शादी की थी। वह फिलहाल अपने होमटाउन में दो ढाबा चला रहे हैं और उत्तराखंड में एक कपड़े का शोरूम है। आशुतोष कहते हैं, ‘रोटी की कोई दिक्कत नहीं है। हम तो अपने ढाबा पर लोगों को खिलाते हैं। मैं नोएडा के न्यूज चैनल के लिए समय-समय पर शोज करता रहता हूं। अगर मुझे मुंबई से किसी प्रोजेक्ट के लिए कॉल आता है तो मैं शूट के लिए जाता हूं और लौट आता हूं।‘
 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें