फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजनपुष्पा हिंदी के कलेक्शन से अल्लू अर्जुन भी दंग, जानिए '83' छोड़ क्यों देख रहे हैं दर्शक

पुष्पा हिंदी के कलेक्शन से अल्लू अर्जुन भी दंग, जानिए '83' छोड़ क्यों देख रहे हैं दर्शक

अल्लू अर्जुन और रश्मिका मंदाना स्टारर फिल्म पुष्पा बॉक्स ऑफिस पर पैसा बरसा रही है। 18वें दिन फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर ओवरऑल 300 करोड़ रुपये का आंकड़ा पार कर लिया। वहीं पुष्पा के सिर्फ हिंदी वर्जन की ही...

पुष्पा हिंदी के कलेक्शन से अल्लू अर्जुन भी दंग, जानिए '83' छोड़ क्यों देख रहे हैं दर्शक
Kajal Sharmaटीम, लाइव हिंदुस्तान,मुंबईTue, 04 Jan 2022 05:36 PM

अल्लू अर्जुन और रश्मिका मंदाना स्टारर फिल्म पुष्पा बॉक्स ऑफिस पर पैसा बरसा रही है। 18वें दिन फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर ओवरऑल 300 करोड़ रुपये का आंकड़ा पार कर लिया। वहीं पुष्पा के सिर्फ हिंदी वर्जन की ही कमाई 65 करोड़ रुपये के करीब पहुंच गई है। फिल्म को सुकुमार ने डायरेक्ट किया है और यह सिनेमाघरों में 17 दिसंबर को आई थी। वहीं रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण स्टारर '83' भीड़ नहीं जुटा पाई। जबकि ऐसा माना जा रहा था कि 1983 के वर्ल्डकप पर बनी इस फिल्म को देखने सिनेमा लवर्स ही नहीं बल्कि देशभर के क्रिकेट प्रेमी भी जुटेंगे। अब कई लोगों के मन में सवाल आ रहा है कि आखिर पुष्पा में ऐसा है क्या? 


अल्लू अर्जुन को नहीं थी इतनी कमाई की उम्मीद


24 दिसंबर को 83 की रिलीज के बाद कोरोना के केस अचानक बढ़ने की खबर आई। फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर अच्छा रिस्पॉन्स नहीं मिला तो माना गया कि कोविड के चलते लोग थिएटर नहीं पहुंच रहे। वहीं दूसरी ओर पुष्पा का दूसरा वीक था और इसके ग्राफ में जबरदस्त उछाल देखा गया। इसका मतलब था कि हिंदी दर्शक 83 को छोड़ पुष्पा देखने पहुंचे। पुष्पा को इतने दर्शक मिलने पर फिल्म के हीरो अल्लू अर्जुन तक हैरान हैं। उन्हें खुद हिंदी दर्शकों से इतनी कमाई की उम्मीद नहीं थी।

 

पुष्पा में है टोटल मसाले की गारंटी


दरअसल अल्लू अर्जुन की फिल्म पुष्पा इंडियन मल्टी जॉनरा फॉर्मेट पर बनी है। इसका मतलब है, इसमें गाने हैं, ऐक्शन-फाइट सीन हैं, ड्रामा है, प्रेम कहानी है और ह्यूमर भी है। मतलब अगर 5 अलग-अलग तरह की फिल्में पसंद करने वाले लोग देखेंगे तो उन पांचों को यह फिल्म पसंद आएगी। भारतीय दर्शक ऐसी फिल्मों को फुल पैसा वसूल मानते हैं। अल्लू अर्जुन भी पुष्पा के चलने के पीछे यही वजह मानते हैं। पिंकविला से बातचीत में उन्होंने इस फिल्म को इंडियन मल्टी जॉनरा फॉर्मेट का बताया। वहीं आप अगर सिर्फ हॉरर फिल्म बनाएं, कॉमेडी बनाएं, स्पोर्ट्स फिल्म बनाएं या थ्रिलर इसका दर्शक सीमित हो जाता है। अल्लू अर्जुन मानते हैं कि लोग भारत के लोग फुल मसाला पैकेज फिल्में पसंद करते हैं। 

 

'पुष्पा' में अल्लू अर्जुन-रश्मिका के बीच 'ब्रेस्ट टचिंग' सीन पर मचा बवाल, मेकर्स को चलानी पड़ी कैंची

 


पुष्पा को मिली माउथ पब्लिसिटी


इंट्रेस्टिंग बात ये है कि पुष्पा की रिलीज के बाद क्रिटिक्स से इसको इतनी ज्यादा तारीफ नहीं मिली थी। इसके रिव्यूज में ज्यादातर 3 स्टार्स ही थे। पहले वीक फिल्म चलने के बाद अगले सोमवार से अचानक इसका ग्राफ उठा, उस वक्त 83 रिलीज हो चुकी थी। माना जा रहा है कि हिंदी दर्शकों के रिव्यू और माउथ पब्लिसिटी ने फिल्म के फेवर में काम किया। इसके हिंदी वर्जन को सेकंड वीक में ही ऑफिशली हिट घोषित कर दिया गया था। स्पाइडर मैन और 83 से कॉम्पिटीशन के बावजूद यह अब तक करीब 65 करोड़ की कमाई कर चुकी है। 


क्या है पुष्पा की कहानी


फिल्म की कहानी का मेन हीरो है पुष्पा राज (अल्लू अर्जुन) जो कि कूली का काम करता है। पुष्पा का बचपन कठिनाइयों में बीता है। वह बिन ब्याही मां का बेटा बना है। समाज में उसको इज्जत नहीं मिलती इसलिए वह अपना नाम करने की कसम खाता है। पैसा और नाम कमाने के लिए वह अपना काम छोड़कर लाल चंदन की तस्करी के धंधे में लग जाता है। पुष्पा जल्द ही नाम पैसा कमाने में कामयाब हो जाता है। की लोग पुलिस के डर से ये धंधा छोड़ते हैं लेकिन पुष्पा अपनी चालाकी और अक्लमंदी से हमेशा बचता रहता है। फिल्म में पुष्पा की टक्कर होती है अपनी ही तरह स्वैग वाले इंस्पेक्टर भंवर सिंह शेखावत से। इस बीच पुष्पा की श्रीवल्ली (रश्मिका मंदाना)  से लव स्टोरी भी चलती है। फिल्म के गाने भी लोगों को काफी पसंद आए। नॉर्मल कहानी होने के बाद भी इसके स्क्रीनप्ले और डायरेक्टर ने जैसे कैरेक्टर्स को प्रजेंट किया है, इसके प्लस पॉइंट्स हैं। पुष्पा का पहला पार्ट देखने के बाद लोग अब सेकंड का इंतजार कर रहे हैं।


83 को दी कड़ी टक्कर


बॉक्सऑफिसइंडिया. कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक, 83 बॉक्स ऑफिस कलेक्शन में इस सोमवार काफी ड्रॉप देखा गया जबकि पुष्पा हिंदी में मामूली फर्क आया है। पुष्पा की अब तक की कमाई 65 करोड़ के आसपास है वहीं 83 की 88 करोड़ तक पहुंची है। जिस तरह से 83 के दर्शकों में कमी है तो ये माना जा रहा है कि पुष्पा हिंदी 83 से आगे निकल सकती है।

epaper