DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बॉलीवुड फिल्मों में काम करने पर नीरू बाजवा बोलीं- गलती से ही सीखता है इंसान

                                                                                                                                -

दिलजीत दोसांझ और नीरू बाजवा की फिल्म 'छड़ा' ने धमाल मचा दिया है। फिल्म को दर्शकों से अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है। नीरू बाजवा ने हाल ही में लाइव हिन्दुस्तान से खास बातचीत की और इस दौरान उन्होंने कई दिलचस्प बातें बताईं।

'छड़ा' में आप दिलजीत दोसांझ से 2 साल बड़ी लड़की का किरदार निभा रही हैं, लेकिन रियल लाइफ में अभी भी इसे लेकर दिक़्क़तें होती हैं तो इस पर आप क्या कहती हैं?

ये सब बकवास थिंकिंग है। मैं इन सब बातों को नहीं मानती हूँ। ये सबकी अपनी च्वॉइस है वो किसे अपना लाइफ पार्टनर बनाना चाहते हैं।

आप पंजाब की इतनी बड़ी स्टार हैं, तो फ़ैन्स की एक्सपेक्टेशन आपसे बहुत हो जाती हैं तो ऐसे में आप कैसे स्क्रिप्ट्स फ़ाइनल करती हैं?

मैं लक्की हूँ कि पंजाब में मेरी फिल्म से ही मुझे पसंद किया गया और मेरे पास हमेशा से जो स्क्रिप्ट आती है वो बहुत स्ट्रॉंग होती है. ऐसा नहीं है के मुझे सिर्फ़ डोकेरेशन के लिए रखा गया हो। तो मेरे रोल्स काफ़ी अच्छे होते हैं।

आपने देवानंदजी के साथ काम किया था बहुत ही छोटी उम्र में तो कैसे आप उस फिल्म से जुड़ी थीं?

मैं तब 15 साल की थी जब मैंने वो फिल्म की थी। वो मोमेंट मैं कभी नहीं भूल सकती। उन्होंने अपनी किताब में भी मेरा ज़िक्र किया है तो मैं बहुत अच्छा लगता है।
रही बात फ़िल्म से कैसे जुड़ी तो देव साहब के लिए एक शो रखा गया था जिसके लिए मैंने ऑडिशन दिया था और मैं उसमें चुनी गई थी। वहाँ मेरी परफ़ॉर्मेंस देखकर उन्होंने मुझे अपनी फिल्म के लिए चुना।

आपने कुछ हिन्दी फ़िल्मों मैं काम किया, लेकिन फिर आप पंजाब इंडस्ट्री में बिजी हो गईं तो क्या वजह है इसके पीछे?

जितना भी मैंने बॉलीवुड फ़िल्मों में काम किया वो बहुत अच्छी फ़िल्में नहीं थी। लेकिन इंसान अपनी ग़लती से ही सीखता है। जब आप यंग होते हैं तो तब आपको लगता है कि यही होता है, हमें यही करना होता है। लेकिन बाद में आपको बातें रिएलाइज होती हैं पर तब तक देर हो जाती है।

आप एक्टर होने के साथ-साथ डायरेक्टर-प्रोड्यूसर भी हैं तो कैसे आप से सब हैंडल करती हैं और क्या तीनों प्रोफ़ेशन के समय स्क्रिप्ट फ़ाइनल करके हुए आपकी सेम थिंकिंग होती है?

मैं सब कुछ इसलिए हैंडल कर पाती हूँ क्योंकि मेरी टीम, मेरे पार्टनर्स सब अच्छे से हैंडल कर लेते हैं और मुझे पूरा सपोर्ट करते हैं। 
वहीं एक प्रोड्यूसर के नाते जब मैं स्क्रिप्ट फ़ाइनल करती हूँ तो यही देखते हैं कि सेफ़ क्या है। लेकिन अब हम जल्दी ही एक महत्वपूर्ण सबजेक्ट पर फिल्म बनाने वाले हैं मुंडा चाहिदा क्योंकि सबको लड़का चाहिए तो हम इस पर भी फिल्म बनाने वाले हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:neeru bajwa says she has bot done good movies in bollywood