DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कार्डियक अरेस्ट की वजह से इस एक्टर की मौत, जानें क्यों होता है ये?

जानें क्या है कार्डिएक अरेस्ट
जानें क्या है कार्डिएक अरेस्ट

बॉलीवुड अभी श्रीदेवी की मौत की खबर से उबरा भी नहीं था कि एक्टिंग की दुनिया से एक और एक्टर ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। बॉलीवुड एक्टर नरेंद्र झा का आज निधन हो गया। नरेंद्र झा ने सिर्फ 55 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया। नरेंद्र झा की मौत की वजह हार्ट अटैक बताई जा रही है। खबरों की मानें तो झा को ये तीसरा अटैक था और मगंलवार सुबह पांच बजे उन्होंने अपने फार्म हाउस पर आखिरी सांस ली।

बता दें कि नरेंद्र झा से पहले भी ऐसे कई सैलिब्रिटीज हैं जिनकी मौत कार्डियक अरेस्ट या हार्ट अटैक से हुई। हाल ही में पूरनचंद वडाली के छोटे भाई प्यारे लाल वडाली का निधन भी हार्ट अटैक के कारण की हुआ था। इससे पहले 6 जनवरी 2017 को  ओमपुरी की मौत भी हार्ट अटैक के कारण हुई थी और उसी साल 28 जुलाई इंदर कुमार की मौत भी हार्ट अटैक से हुई थी।

जानें क्या है कार्डिएक अरेस्ट

बता दें कि कार्डिएक अरेस्ट अचानक होता है। इससे दिल की पम्प करने की क्षमता पर असर होता है और वो दिमाग, दिल या शरीर के दूसरे हिस्सों तक खून पहुंचाने में कामयाब नहीं रहता। इससे सांस बंद हो जाती है और व्यक्ति बेहोश हो जाता है और रिस्पांस करना बंद कर देता है। अगर सही समय पर सही इलाज न मिले तो कार्डिएक अरेस्ट के कुछ सेकेंड या मिनटों में मौत हो सकती है। डॉक्टर्स के अनुसार, दिल की धमनियों में इलेक्ट्रिक सिग्नल में दिक्कत आना कार्डियक अरेस्ट की जड़ होता है। 

कार्डियक अरेस्ट और हार्ट अटैक में होता है ये फर्क 

क्या होता है हार्ट अटैक
क्या होता है हार्ट अटैक

हार्ट अटैक तब होता है जब शरीर की धमनी में अचानक गतिरोध पैदा हो जाता है। इस आर्टरी से हमारे हृदय की पेशियों तक खून पहुंचता है, और जब वहां तक खून पहुंचना बंद हो जाता है, तो वे निष्क्रिय हो जाती हैं। यानी हार्ट अटैक होने पर दिल के भीतर की कुछ पेशियां काम करना बंद कर देती हैं। धमनियों में आए इस तरह आई ब्लॉकेज को दूर करने के लिए कई तरह के उपचार किए जाते हैं जिनमें एंजियोप्लास्टी, स्टंटिंग और सर्जरी शामिल हैं, और कोशिश होती है कि दिल तक खून पहुंचना नियमित हो जाए।

क्यों कम उम्र में हो रहा है कार्डियक अरेस्ट :

एक स्टडी की मानें तो यूथ का बदलता लाइफस्टाइल और रूटीन इसके होने का एक बड़ा कारण है। खराब लाइफस्टाइल का असर सीध दिल पर पड़ता है जिसके चलते कार्डियक अरेस्ट का खतरा ज्यादा रहता है। कार्डियक अरेस्ट होने के और भी कुछ कारण हैं। जैसे किसी व्यक्ति का लगातार स्ट्रेस में रहना, अपनी दिनचर्या में एक्सरसाइज का बिल्कुल शामिल ना होना, जिस व्यक्ति का बीपी ज्यादातर हाई रहता है उन्हें भी कार्डियक अरेस्ट होने की संभावना ज्यादा रहती है। इसके अलावा ज्यादा स्मोकिंग करने वाले लोगों को भी कार्डियक अरेस्ट का खतरा रहता है। 

अगली स्लाइड में देखें क्या हैं इसके लक्षण :

 

क्या हैं इसके लक्षण :
क्या हैं इसके लक्षण :

वैसे तो कार्डिएक अरेस्ट अचानक ही आता है, लेकिन कभी-कभी इसके लक्षण भी सामने आ जाते हैं, जिन्हें कभी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। पढ़ें लक्षण-

छाती में दर्द
सांसों की कमी
पल्पीटेशन
अचानक कमजोरी आना
चक्कर आना
बेहोशी
थकान
ब्लैकआउट

क्या है इसका इलाज :

अगर किसी को कार्डिएक अरेस्ट आता है तो उसे इलेक्ट्रिक शॉक से बचाया जा सकता है। जिस डिवाइस से इलेक्ट्रिक शॉक दिए जाते है उसे डिफिब्रिलेटर कहते हैं और कार्डिएक अरेस्ट के मरीज की ये आखिरी उम्मीद होती है। कार्डिएक अरेस्ट के बारे में पता चलने पर पीड़ित व्यक्ति को तुरंत सीपीआर देना चाहिए और फिर जल्द से जल्द अस्पताल ले जाना चाहिए।

SAD! हार्ट अटैक से एक्टर नरेंद्र झा का निधन, 3 साल पहले की थी शादी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Narendra Jha passes Away after Heart Attack Know the reason behind Cardiac Arrest and Heart Attack