DA Image
24 जनवरी, 2020|2:44|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब फिल्म पायरेसी पर लगेगी लगाम, सरकार लाने जा रही सख्त सजा का प्रस्ताव

film piracy

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने फिल्म पाइरेसी से निपटने के लिए सख्त सजा देने के वास्ते सिनेमैटोग्राफी कानून में संशोधन का प्रस्ताव दिया है। विधेयक के मसौदे पर लोगों से राय मांगी है। एक बयान में कहा गया है कि मंत्रालय फिल्म पाइरेसी की जांच करने खासतौर से फिल्मों के पाइरेटिड वर्जन को इंटरनेट पर रिलीज करने पर लगाम लगाने के लिए सिनेमेटोग्राफी कानून, 1952 में बदलाव करना चाहता है। पाइरेसी से फिल्म उद्योग और सरकार के खजाने को बड़ा नुकसान होता है। सिनेमेटोग्राफी कानून, 1952 की धारा सात में सार्वजनिक प्रदर्शन के लिए फिल्मों के प्रमाणन के लिए प्रावधानों का उल्लंघन करने पर सजा होती है।

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने कानून की धारा सात की नई उप धारा (4) जोड़ने के लिए सिनेमेटोग्राफी कानून (संशोधन) विधेयक का प्रस्ताव दिया है। संशोधन विधेयक के मसौदे में मंत्रालय ने फिल्म पाइरेसी अपराधों को दंडनीय बनाने का प्रावधान पेश किया है। इसमें तीन साल की जेल की सजा और 10 लाख रुपये तक का जुर्माना या दोनों का प्रावधान है। कोई भी व्यक्ति अगर कॉपीराइट मालिक के लिखित अधिकार के बिना किसी फिल्म की दृश्य या श्रव्य रिकॉर्डिंग करने के लिए किसी रिकॉर्डिंग उपकरण का इस्तेमाल करता है या उसका प्रसारण करता है जो वह सजा का पात्र होगा। मंत्रालय ने 14 जनवरी 2019 तक सिनेमेटोग्राफी कानून (संशोधन) विधेयक के मसौदे पर टिप्पणियां मांगी है।

राकेश रोशन को हुआ कैंसर, ऋतिक की एक्स वाइफ सुजैन ने दिया ये रिएक्शन

PM मोदी की बायोपिक को डायरेक्ट करने पर ओमंग कुमार ने कही ये बात

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ministry of Information and Broadcasting is going to make hard sentence for piracy of movies