अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ये है 'तारक मेहता...' का वो लास्ट सीन, जिसके बाद डॉ.हाथी ने इस दुनिया को कहा अलविदा

ये है तारक मेहता का वो लास्ट सीन, जिसके बाद डॉ.हाथी ने इस दुनिया को कहा अलविदा

टीवी का पॉपुलर कॉमेडी सीरियल 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' में डॉ. हाथी का किरदार निभाने वाले कवि कुमार आजाद अब इस दुनिया में नहीं रहे। इस खबर को जानने के बाद सभी सदमे में हैं फिर चाहे वो उनके फैन्स हों या उनके को स्टार्स। अब इस सीरियल में बबीता जी का किरदार निभाने वालीं एक्ट्रेस मुनमुन दत्ता ने सोशल मीडिया पर डॉ.हाथी की एक फोटो शेयर करते हुए बताया है कि कल के एपिसोड यानी बुधवार को टीवी पर टेलिकास्ट हुआ सीन वो आखिरी सीन था जिसमें कवि कुमार आजाद ने पूरी टीम के साथ शूटिंग की थी।

मुनमुन ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी में एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा, 'ये वो आखिरी सीन है जो हमने हाथी भाई के साथ शनिवार को शूट किया था। इसके बाद आगे आने वाले एपिसोड में जो भी सीन दिखाए जाएंगे, वो उनके साथ पहले ही शूट किए जा चुके थे।'

ये है तारक मेहता का वो लास्ट सीन, जिसके बाद डॉ.हाथी ने इस दुनिया को कहा अलविदा

रिपोर्ट्स के मुताबिक बुधवार के एपिसोड में गोकुलधाम सोसायटी के सारे लोग बापूजी से मिलने उनके घर जाते हैं। जेठालाल देश से बाहर हैं और बापूजी ने जेठालाल के 100 करोड़ का लोन लेकर देश से भागने का सपना देखा था। इसी सपने को देख बापूजी काफी परेशान हो जाते हैं और घरवाले इस बीच उनसे मिलने पहुंचते हैं।

डॉ.हाथी की मौत से वरुण धवन भी हो गए SHOCKED, फोटो शेयर कर लिखी ये बात

डॉ.हाथी की मौत से दुखी जेठालाल, कही ये बड़ी बात

ये सलाह मानते तो आज जिंदा होते डॉ हाथी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक डॉक्टर ने बताया कि उनकी मौत का कारण उनका बढ़ा हुआ वजन था। डॉक्टर ने उन्हें बैरिएट्रिक सर्जरी कराने की सलाह दी थी। लेकिन उन्होंने डॉक्टर की बात नहीं मानी।

आखिर क्यों नहीं मानी बात

खबरों के मुताबिक एक न्यूज वेबसाइट से बात करते हुए 8 साल पहले हाथी की बैरिएट्रिक सर्जरी करने वाले डॉ मुफी ने कहा, 'कवि कुमार 8 साल पहले मेरे पास आए थे। उस समय उनका वजन 265 किलो था। मैंने उन्हें कई बार सर्जरी की सलाह दी थी, लेकिन काम न मिलने के डर से वो सर्जरी नहीं करा रहे थे। वजन के कारण उनसे चला भी नहीं जा रहा था। उनकी हालत काफी खराब थी। उन्हें 10 दिन तक वेंटीलेटर पर रखना पड़ा। इससे उन्हें हटाया नहीं जा सकता था, क्योंकि इसके बिना वो सांस भी नहीं ले पा रहे थे।'

डॉ. मुफी ने बताया कि कुछ दिन बाद वो ठीक हो गए और उन्होंने सर्जरी करवा के 140 किलो वजन कम किया। इसके बाद वो ठीक हो गए। फिर उन्हें दूसरी बैरिएट्रिक सर्जरी की सलाह दी गई। लेकिन वो इसके लिए राजी नहीं हुए। सर्जरी के बाद उनका वजन 90 किलो हो जाता। लेकिन बेरोजगारी के डर से उन्होंने इस बार मना कर दिया। पहले से उनका वजन 20 किलो और बढ़ गया था। उनका वजन 160 किलो था। अगर वो ये सर्जरी दोबारा करवा लेते तो आज वो जिंदा होते। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kavi Kumar Azad aka Dr Haathi last shot for Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah