DA Image
31 जुलाई, 2020|4:59|IST

अगली स्टोरी

जूही चावला का दावा, कहा- कम क्रू मेंबर्स के साथ भी हो सकती है फिल्म की शूटिंग

juhi chawla

फिल्मों की शूटिंग शुरू तो हो रही है, लेकिन उसमें सेट पर सिर्फ 33 फीसदी लोगों के रहने के सवाल में कितना दम है, इस पर अभिनेत्री जूही चावला से हमने किए कुछ सवाल। पढि़ए उनके दिलचस्प जवाब

अभिनेत्री जूही चावला लंबे समय से बॉलीवुड में हैं, उस वक्त से जब फिल्मों की सफलता का पैमाना उनके बॉक्स ऑफिस पर चलने की अवधि से लगाया जाता था और आज तक, जब फिल्में सीधे ओटीटी प्लैटफॉर्म पर रिलीज हो रही हैं। फिल्मों की दुनिया में ऐसे जबरदस्त बदलाव की वह साक्षी हैं। 

इसलिए जब आप इस अभिनेत्री से फिल्मों के भविष्य पर और महामारी के डर के माहौल के बीच फिर से शूटिंग शुरू करने को लेकर सवाल करते हैं, तो उनके व्यावहारिक नजरिए को जानकर आश्चर्य नहीं होता। आखिर इतना कुछ देखने के बाद कोई भी इस नजरिए से ही चीजों को देखेगा। इस हाल पर वह कहती हैं, ‘जिस तरह से हमने लॉकडाउन के दौरान यह महसूस किया कि जिंदगी के लिए बहुत ज्यादा तामझाम की जरूरत नहीं होती, वैसे ही हो सकता है कि हम यह भी महसूस करें कि फिल्म बनाने में हमें 150 लोगों की कोई जरूरत नहीं होती और हम अनिवार्य रूप से इससे आधे लोगों के बल पर फिल्में बनाने लगें।’

बात सही है और उनका ये नजरिया सरकारी दिशा-निर्देशों के अनुसार ही है। जिसमें कहा गया है कि सिर्फ 33 फीसदी फिल्मी दल सेट पर होना चाहिए। इस नियम की संभावनाओं को और ज्यादा उभारते हुए 52 वर्षीय यह अभिनेत्री कहती हैं, ‘मैं हाल ही में अपने परिवार को विदेश में शूटिंग के बारे में बता रही थी। भारत में हमारा दल 100 -115 लोगों का था। हम ‘डर’ फिल्म के लिए स्विट्जरलैंड गए। वहां हमारे पास सिर्फ 32 लोग थे। हम एक महीने के लिए गए थे। और फिल्म का 50 फीसदी वहीं शूट हुआ था। अब क्या आप स्क्रीन पर देखकर इसका अंतर बता सकते हैं?’  

‘ब्रीदः इंटू द शैडोज़’ देखकर इमोशनल हुईं ऐश्वर्या राय बच्चन, अभिषेक बच्चन ने कहा- कुछ हफ्तों पहले ही देख ली थी यह वेब सीरीज

तापसी पन्नू ने दिया विकास दुबे एनकाउंटर पर रिएक्शन, कहा- वाह, हमने ये तो एक्सपेक्ट नहीं किया था

उनका  मानना है कि सेट पर बड़ी संख्या वाला फिल्मी दल बिल्कुल भी जरूरी नहीं होता। वह कहती हैं, ‘एक असिस्टेंट को अपना असिस्टेंट चाहिए होता है, जिसे अपना स्पॉट ब्वॉय चाहिए होता है। हां, कुछ प्रोजेक्ट्स में जरूरत होती भी है।’ वह मानती हैं कि जब आप खुद को थोड़ा और आजमाते हैं, तो चीजें कर ही लेते हैं। 

लॉकडाउन पर अपना अनुभव साझा करते हुए वह कहती हैं, ‘शुरू में मेरा पहला सवाल था-खाना तो मिलेगा ना? कहने का मतलब है जिंदगी की बेसिक चीजों की चिंता हुई, लेकिन जैसे-जैसे वक्त बीता मैंने महसूस किया कि इतने में भी आराम से रह सकते हैं।’     

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Juhi Chawla On Resuming Shooting Says We Can Work With Less Crew Members