DA Image
6 अप्रैल, 2020|1:40|IST

अगली स्टोरी

जब आईसीयू में भर्ती मां को बचाने के लिए शाहरुख खान ने अपनाई थी ये तरकीब, लेकिन...

शाहरुख खान जब 26 साल के थे तो उन्होंने अपनी मां को खो दिया था। वहीं उनके पिता तो जब वो 15 साल के थे तभी उन्हें छोड़कर चले गए थे। अपने माता-पिता के साथ कम समय बिताने से दुखी शाहरुख अपने बच्चों के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताना चाहते हैं ताकि उनके बच्चों को ये कभी ना लगे कि उनके पापा उन्हें ज्यादा समय नहीं दे पाए। हाल ही में डेविड लेटरमेन के शो में शाहरुख ने अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर कुछ बातें बताई। उन्होंने अपनी मां से जुड़ा एक ऐसा किस्सा सुनाया जो काफी इमोशनल कर देने वाला था। शाहरुख ने कहा, 'मेरी एक डेथ थ्योरी है और वो ये कि मेरा मानना है कि जिन लोगों की मौत होती है, ये वो लोग होते हैं जो अपनी लाइफ से संतुष्ट होते हैं और जिन लोगों के जीवन में काम अधूरे रह जाते हैं, उन्हें भगवान ऊपर नहीं बुलाता है तो ये वो दौर था जब मेरी मां काफी बीमार हुई थीं।'

शाहरुख ने आगे कहा कि जब उनकी मां बीमार थीं तो वो उनके बेड के बगल में बैठकर कई तरह की बातें करते थे। उन्होंने कहा, 'मैं कहता था कि मैं काम नहीं करूंगा। मैं शराब पीने लग जाउंगा और ऐसी कई बातें कहता था जिससे मेरी मां को लेकर कि अभी उन्हें अपने बेटे को सही राह पर लाना है और वो ठीक हो जाएं। लेकिन मेरी ये तरकीब काम नहीं आई।'

अमिताभ बच्चन को 'भगवान' मानते हैं मनीष पॉल, जानें क्यों

लाइव कान्सर्ट में फैन ने की निक जोनस के साथ बदतमीजी

आज भी अपने मम्मी-पापा से इस बात को लेकर हैं नाराज...

शाहरुख से इस दौरान पूछा गया कि वो अपने माता-पिता से किस बात पर नाराज हैं? तो इसके जवाब में शाहरुख ने कहा, पता नहीं, मुझे ये कहना चाहिए या नहीं। लेकिन एक चीज के चलते मैं उन लोगों से खफा हूं। वो बात ये है कि उन्होंने मेरे साथ ज्यादा समय नहीं बिताया है। बस इसी वजह से मैंने ये फैसला किया है कि मैं लंबे समय तक जिंदा रहना चाहूंगा ताकि मैं अपने बच्चों के साथ अच्छा और स्पेशल समय बिता सकूं। उन्हें इस बात का कभी एहसास ना हो कि उनके पेरेंट उनके पास नहीं है। मैं उनके साथ खाना, सोना बात करना चाहता हूं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Jab icu main bharti maa ko bachane k lie shahrukh khan ne apnai thi ye tarkeeb