DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   मनोरंजन  ›  इरफान खान के निधन के बाद आने लगे थे आत्महत्या के ख्याल... बेटे बाबिल ने बताया कैसी हो गई थी हलात

मनोरंजनइरफान खान के निधन के बाद आने लगे थे आत्महत्या के ख्याल... बेटे बाबिल ने बताया कैसी हो गई थी हलात

हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Utkarsha Srivastava
Thu, 29 Apr 2021 08:16 PM
इरफान खान के निधन के बाद आने लगे थे आत्महत्या के ख्याल... बेटे बाबिल ने बताया कैसी हो गई थी हलात

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता इरफान खान को गुजरे हुए आज एक साल हो गया है। वो अपने पीछे पत्नी सुतापा सिकदार और दो बेटों बाबिल- अयान को छोड़ गए थे। वहीं इरफान के निधन के बाद उनकी पत्नी और बेटे बाबिल ने सोशल मीडिया पर पोस्ट के जरिए उन्हें अक्सर याद किया। वहीं हाल ही में पिता की पुण्यतिथि पर बाबिल का एक इंटरव्यू जबरदस्त सुर्खियों में आ गया है, जिसमें उन्होंने बताया है कि पिता को खो देने के बाद उनकी कैसी हालत हो गई थी। वो डिप्रेशन में जा रहे थे और आत्महत्या के ख्याल आने लगे थे।

मां सोचकर हैरान थीं

बाबिल अपने पिता इरफान खान से जुड़ी यादे अक्सर सोशल मीडिया के जरिए शेयर करते दिखाई दे जाते हैं। वहीं हाल ही में उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए बाबिल ने बताया है कि उन्हें पिता के निधन के बाद सुसाइडल ख्याल आने लगे थे। उन्होंने बताया कि किस तरह वो डिप्रेशन में चले गए गए। बाबिल ने कहा- 'पहले कुछ दिनों तक, मां सोचती थी कि ये कैसे खुद को संभाल रहा है? मैं दौड़ रहा था, सबकुछ कर रहा था, देख रहा था कि घर और अस्पताल में सबकुछ ठीक रहे। ये असल में वाकई बेहद खराब था। मैं बता नहीं सकता हूं कि वो किस कदर दर्द में थे जब वो होश में थे'।

'बाबिल तुम कहीं मत जाओ मुझे छोड़ कर'

बाबिल ने कहा कि जब भी वो इरफान खान के कमरे से किसी काम से बाहर निकलते थे तो पिता कहते थे- 'बाबिल तुम कहीं मत जाओ मुझे छोड़ कर'। बाबिल कहते हैं कि 'मुझे खास तौर पर याद है कि जब वो लोग catheter रखने जा रहे थे तब मुझसे बाहर जाने के लिए कहा गया तब वो मुझ पर लगभग चिल्ला दिए कि बाबिल तुम कहीं मत जाओ मुझे छोड़के। उन्होंने मुझे कमरे से बाहर निकाला और वो मेरा नाम लेकर चिल्ला रहे थे'। बाबिल ने बताया कि 'उनके निधन के बाद मैंने खुद को अच्छे से संभाला, जिस पर मां भी हैरान थीं। लेकिन दो दिनों के बाद भी मैं टूटता चला गया'।

मैं गहरे गहरे डिप्रेशन में जा रहा था

बाबिल कहते हैं कि 'सबकुछ जैसे बंद हो गया था। मैं गहरे गहरे डिप्रेशन में जा रहा था। मैं बता भी नहीं सकता... मुझमें जीने की उम्मीद ही बाकी नहीं थी। मैं बहुत सुसाइडल हो गया था'। बाबिल ने कहा कि उनकी मां सुतापा हर मुश्किल वक्त में परिवार का सपोर्ट सिस्टम थीं। बाबिल का कहना है कि मां के सपोर्ट के कारण है उनके बाबा करियर के इस मुकाम तक पहुंच पाए थे।

संबंधित खबरें