DA Image
21 जनवरी, 2020|11:41|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर्षदीप के सूफी गीतों पर झूमे दर्शक

जश्न-ए-रेख्ता के दौरान गुरुनानकदेव की 550वीं जयंती, महात्मा गांधी की 150वीं जयंती और मिर्जा गालिब की 150वीं पुण्यतिथि मनाई जाएगी। कार्यक्रम में जावेद अख्तर, शबाना आजमी, राहत इंदौरी, मुनव्वर राणा, दिव्या दत्ता, सुजात खान, पीयूष मिश्रा, मैथिली ठाकुर जैसे दिग्गज शायर, कलाकार शामिल होंगे।

राजधानी के मेजर ध्यानचंद स्टेडियम में जब उर्दू के दीवानों के बीच सूफी गायिका हर्षदीप कौर पहुंची तो सबने खड़े होकर उनका स्वागत किया। उन्होंने एक के बाद एक सूफी और पंजाबी लोक गीत गाए तो स्टेडियम में मौजूद हजारों दर्शक झूमने लगे।

शुक्रवार को जश्ने-रेख्ता के छठे संस्करण के पहले दिन का आगाज हुआ। सबसे पहले कार्यक्रम की शुरुआत औपचारिक रूप से कांग्रेस नेता और जम्मू कश्मीर के महाराजा हरि सिंह के बेटे डॉ कर्ण सिंह ने की।

हर्षदीप कौर ने न सिर्फ अपने गाने गाए बल्कि नुसरत फतह अली खान और पंजाबी सिंगर सुरेंद्र कौर के गाने भी गाए। उन्होंने जब नुसरत का ‘सांसों की माला पे सिमरु में पी का नाम'गीत गाया तो लोगों के चेहरों पर मुस्कान आ गई। इसके बाद वे खड़े हो गईं और दर्शकों से कहा कि ये गाना आपके लिए खड़े होकर गाऊंगी। इसके बाद उन्होंने 'टूटे जमाने तेरे हाथ निगोड़े' गाया तो लोग फिर से अपनी सीटों से खड़े होकर तालियां बजाने लगे। इसके बाद उन्होंने अपने करियर की तरक्की में दिल्ली की लड़की होने के योगदान के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि उन्हें दिल्ली की होने की वजह से यहां के अधिकतर ऑडिशन में जाने का मौका मिल जाता था। उन्होंने अंत में 'ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो' गाकर एक बार फिर समां बांध दिया।

काशी के घाट और गलियों में नाचे रणबीर और आलिया, मौसम के बदलाव ने किया परेशान

बालाकोट एयर स्ट्राइक पर फिल्म बनाएंगे संजय लीला भंसाली

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Harshdeep Kaur Performed In Jashn E Rekhta In New Delhi