फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजनप्रेग्नेंसी के दौरान मरते-मरते बची थीं दीया मिर्जा, बोलीं-बच्चे को जन्म देना पड़ा क्योंकि प्लेसेंटा से खून निकलने लगा...

प्रेग्नेंसी के दौरान मरते-मरते बची थीं दीया मिर्जा, बोलीं-बच्चे को जन्म देना पड़ा क्योंकि प्लेसेंटा से खून निकलने लगा...

बॉलीवुड एक्ट्रेस दीया मिर्जा (Dia Mirza) के लिए साल 2021 बेहद खास और इमोशनल मोमेंट्स से भरा रहा। बीते साल की शुरूआत में जहां उन्होंने बिजनेसमैन वैभव रेखी के संग दूसरी शादी रचाई थीं, तो वहीं साल के...

प्रेग्नेंसी के दौरान मरते-मरते बची थीं दीया मिर्जा, बोलीं-बच्चे को जन्म देना पड़ा क्योंकि प्लेसेंटा से खून निकलने लगा...
Radha Sharmaलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीTue, 11 Jan 2022 01:31 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

बॉलीवुड एक्ट्रेस दीया मिर्जा (Dia Mirza) के लिए साल 2021 बेहद खास और इमोशनल मोमेंट्स से भरा रहा। बीते साल की शुरूआत में जहां उन्होंने बिजनेसमैन वैभव रेखी के संग दूसरी शादी रचाई थीं, तो वहीं साल के मिड में उन्हें बेटे अव्यान को जन्म दे कर मां बनीं। भले ही ये सब एक्ट्रेस की लाइफ में बेहद खास रहा लेकिन उन्हें काफी मुश्किलों से गुजरना पड़ा। एक इंटरव्यू के दौरान दीया मिर्जा ने अपने साथ हुई दर्दनाक घटना के बारे में बताया है। उन्होंने खुलासा किया है कि मां बनना उनके लिए बिल्कुल भी आसान नहीं था क्योंकि प्रेग्नेंसी के दौरान वह मरते-मरते बची थीं, हालांकि अभिनेत्री को डॉक्टर्स ने बचा लिया था।

 प्री-मैच्योर बेबी को दिया जन्म

आपको बता दें कि 15 फरवरी, 2021 को दीया मिर्जा ने वैभव रेखी से शादी की। शादी के बाद दीया मिर्जा हनीमून के लिए मालदीव्स गई थीं। शादी के 3 महीने बाद ही 14 मई को दीया ने एक प्री-मैच्योर बेटे को जन्म दिया। बेटा होने के 2 महीने बाद इसकी जानकारी उन्होंने फैन्स के साथ शेयर की थी। हालांकि, उन्होंने बेटे के जन्म की खबर 15 जुलाई को फैंस के साथ शेयर की थी और बताया कि किन हालातों में उन्हें बेबी को जन्म दिया है। 

प्रेग्नेंसी के दौरान वह मरते-मरते बची थीं एक्ट्रेस

'ई-टाइम्स' की रिपोर्ट के अनुसार, दीया मिर्जा ने कहा कि  प्रेग्नेंसी के पांचवें महीने के दौरान उन्हें अपेंडेक्टोमी के लिए जाना पड़ा था, जिसकी वजह से उन्हें काफी मुश्किलें हुई थीं। इसके बाद एक्यूट बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से भी उन्हें कई बार अस्पताल के चक्कर लगाने पड़े थे, क्योंकि यह प्रेग्नेंसी के छठे महीने में सेप्सिस का रूप ले सकता था। ये सभी परेशानियां दीया के लिए ठीक नहीं थी। ऐसे में वह मौत से लड़ रही थीं। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि मुश्किलें तो और बढ़ गई थीं जब उनकी डिलीवरी हो रही थी क्योंकि दीया मिर्जा के प्लेसेंटा से ब्लीडिंग शुरू हो गया था। यह एक मुश्किल समय था, लेकिन दीया मिर्जा और उनके बच्चे को डॉक्टर ने  मुश्किल घड़ी से निकाला कर दोनों की जान बचाई थी।

epaper