Hindi NewsEntertainmentDharmendra Birthday Bollywood actor debut and Zanjeer cienmatic anecdotage tales

Dharmendra Birthday: भूखे धर्मेंद्र ने गटक लिया था इसबगोल का पूरा पैकेट, अखबार के विज्ञापन ने बदल दी थी जिंदगी

Happy Birthday Actor Dharmendra: 8 दिसंबर 1935 को धर्मेंद्र का जन्म हुआ था। एक अखबार के विज्ञापन को देख धर्मेंद्र बंबई आ गए थे और कई मुसीबतों का सामना कर स्टारडम मिला। जानें उनकी जिंदगी के कुछ पहलू...

Dharmendra Birthday: भूखे धर्मेंद्र ने गटक लिया था इसबगोल का पूरा पैकेट, अखबार के विज्ञापन ने बदल दी थी जिंदगी
Avinash Singh Pal लाइव हिन्दुस्तान, मुंबईFri, 8 Dec 2023 08:58 AM
हमें फॉलो करें

Happy Birthday Dharmendra: 8 दिसंबर 1935 को धर्मेंद्र का जन्म ब्रिटिश इंडिया में पंजाब के गांव साहनेवाल में हुआ। धर्मेंद्र बचपन से ही काफी हैंडसम थे लेकिन साथ ही खूब शरारती भी। महज 19 साल की उम्र में धर्मेंद्र की शादी 1954 में प्रकाश कौर से हो गई। शादी के बाद धर्मेंद्र की नजर अखबार के एक विज्ञापन पर पड़ी जिस में लिखा था कि बंबई (मुंबई) में फिल्मफेयर मैगजीन एक टैलेंट हंट कॉम्पिटिशन करवा रही है और जो उस में जीतेगा उसे फिल्मों में काम मिलेगा। धर्मेंद्र के मन में हीरो बनने की इच्छा थी और ऐसे में उन्होंने घर वालों को मनाया और बंबई (मुंबई) निकल आए।

भूखे धर्मेंद्र ने खाई इसबगोल
धर्मेंद्र उस कॉन्टेस्ट को जीते लेकिन किसी वजह से कोई फिल्म नहीं बनी। हालांकि धर्मेंद्र वापस गांव नहीं जाना चाहते थे और ऐसे में उन्होंने मुंबई में ही अलग अलग काम करने का फैसला किया। पैसों की तंगी के चक्कर में धर्मेंद्र कई बार भूखे भी सोए और एक बार तो हालात ऐसे हुए कि भूख से तड़पते धर्मेंद्र ने इसबगोल के पूरे पैकेट को एक ग्लास पानी में घोलकर गटक लिया। हालांकि दिन बदले और आखिरकार धर्मेंद्र को 1960 में 'दिल भी तेरा और हम भी तेरे' फिल्म मिली और उसके लिए उन्हें 51 रुपये फीस मिली।

धर्मेंद्र को नहीं थी डेब्यू फिल्म से उम्मीदें
फिल्म का शूट शुरू हुआ और कुछ वक्त के बाद उन्हें पीलिय हो गया, जिससे उनका वजन कम हो गया, चेहरा मुरझा गया। फिल्म के प्रीमियर में धर्मेंद्र फिल्म में खुद को नहीं पहचान पा रहे थे और उन्हें लगा कि फिल्म कोई पसंद नहीं करेगा और वो आधी फिल्म से ही लौट आए। हालांकि फिल्म हिट साबित हुई। इसके बाद धर्मेंद्र ने कई फिल्मों में काम किया और 60 के दशक में रोमांटिक हीरो बन गए। इसके बाद धर्मेंद्र ने धीरे धीरे अपनी छवि को बदलने का भी काम किया, जिस में 1966 की फिल्म फूल और पत्थर अहम साबित हुई और वो एक्शन हीरो बन गए। 70 का दशक उनके लिए खास रहा और  मेरा गांव मेरा देश, सीता और गीता, समाधि, राजा जानी, यादों की बारात, शोले जैसी कई बड़ी हिट फिल्में रिलीज हुईं।

धर्मेंद्र ने जंजीर को ठुकराया
प्रकाश मेहरा ने फिल्म जंजीर सबसे पहले धर्मेंद्र को ऑफर की थी, लेकिन उस वक्त धर्मेंद्र पर फिल्म समाधि को लेकर जुनून था और उन्होंने जंजीर के लिए इनकार कर दिया। इसके बाद जंजीर, देव आनंद और राजुकमार को ऑफर हुई लेकिन बात नहीं बनी। आखिरकार ये फिल्म अमिताभ बच्चन के पास आई और फिल्म के सुपरहिट होने साथ ही अमिताभ की भी किस्मत चमक गई। गौरतलब है कि 88 साल के धर्मेंद्र अब भी सिनेमाई वर्ल्ड में काफी एक्टिव हैं। हालही में रॉकी और रानी की प्रेम कहानी में दिखे और दिल जीता।

संबंधित खबरें

लेटेस्ट Hindi News, Entertainment News के साथ-साथ TV News, Web Series और Movie Review पढ़ने के लिए Live Hindustan App डाउनलोड करें।
ऐप पर पढ़ें