फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजनChhavi Mittal ने बताया, बच्चों को कैसे दी थी कैंसर की खबर, बोलीं- बेटी रोने लगी थी

Chhavi Mittal ने बताया, बच्चों को कैसे दी थी कैंसर की खबर, बोलीं- बेटी रोने लगी थी

Chhavi Mittal Cancer News: छवि मित्तल ने अपने फैंस को इंस्टाग्राम पर कैंसर की खबर दी और अब तक अपडेट दे रही हैं। अब उन्होंने बताया कि अपने 3 साल के बेटे और 9 साल की बेटी से इस बारे में कैसे बात की।

Chhavi Mittal ने बताया, बच्चों को कैसे दी थी कैंसर की खबर, बोलीं- बेटी रोने लगी थी
Kajal Sharmaटीम, लाइव हिंदुस्तान,मुंबईTue, 17 May 2022 10:16 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/

छवि मित्तल (Chhavi Mittal) ने हाल ही में ब्रेस्ट कैंसर सर्जरी करवाई है। वह कैंसर का पता चलने से लेकर ऑपरेशन थिएटर तक, एक-एक अपडेट फैन्स के साथ शेयर करती रही हैं। छवि ने काफी हिम्मत के साथ पूरा ट्रीटमेंट लिया, जिसकी उनके फैन्स ने काफी तारीफ भी की। अब उन्होंने बताया है कि अपने कैंसर की खबर तीन साल के बेटे अरहाम और नौ साल की बेटी अरीजा को कैसे दी थी। छवि ने बताया कि इस पर उनके बच्चों का क्या रिऐक्शन था। छवि मित्तल को जिम में लगी चोट की वजह अपनी बीमारी का पता चला था।


बेटे से कहा चोट लगी है, संभलकर हग करना


छवि मित्तल ने बीते अप्रैल ब्रेस्ट कैंसर की सर्जरी करवाई है। सर्जरी के पहले और बाद तक वह अपने इंस्टाग्राम पर यह खबर शेयर करती रही हैं। ऑपरेशन के कुछ दिन बाद ही वह घर लौट आईं और काम शुरू कर दिया। साथ ही जिम जाना भी। ईटाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, जब छवि से पूछा गया कि बच्चों को इस बारे में कैसे बताया था? इस पर उन्होंने जवाब दिया, अरहाम बहुत छोटा है। वह सिर्फ 3 साल का है। मैंने उसे बताया कि मुझे राइट साइड चोट लगी है। जब हग करे तो थोड़ा ध्यान रखे। अब वह जब भी हग करता है तो पूछ लेता है कि लेफ्ट साइड कौन सा है? उसने मुझे चोट दिखाने के लिए कहा तो मैंने दिखा दिया। वह पूछता रहता है कि चोट कैसे लग गई। उसने कहानी बना ली है कि दौड़ते वक्त चोट लग गई थी और मैं उसकी हां में हां मिला देती हूं।


दर्द में होती हूं तो डर जाता है बेटा


कभी अगर वह सीधी तरफ छू लेता है तो मैं दर्द से चिल्लाती हूं। वह डर जाता है। अगर वह मुझे दुखी देखता है तो वह भी दुखी हो जाता है। अगर खुश देखता है तो खुश हो जाता है। बेटी को कैसे बताया इस पर छवि बताती हैं, मैंने उसको बैठाया और बताया कि मेरी तबीयत ठीक नहीं है। उसने मुझे सवाल भरी नजरों से देखा और जानना चाहती थी क्या हुआ? मैंने उसे बताया कि दिक्कत है और मैं इसे ठीक करवाने जा रही हूं। मैंने उसको बताया कि अगर मैं यहां कुछ दिन के लिए न रहूं तो परेशान न हो। नानी आ रही हैं वह साथ रहेंगी। वह कैंसर के बारे में जानती है क्योंकि मेरी नानी का निधन एसोफेजियल कैंसर से हुआ था। 

बीमारी जानकर रोने लगी थी बेटी


उसने मुझसे पूछा कि मम्मी क्या यह वही है? इस पर मैंने बोला हैं तो वह रोने लगी। छवि बताती हैं कि मैंने उसको बताया कि मैं बुजुर्ग नहीं हूं, ठीक हो जाऊंगी। छवि ने बताया कि उनकी बेटी हॉस्पिटल में रुकना चाहती थी और देखभाल करना चाहती थी। ये भी पढ़ें: छवि मित्तल ने बताया कैसे झेल रही हैं ब्रेस्ट कैंसर सर्जरी का दर्द, बोलीं- पेन किलर काम नहीं कर रही लेकिन...

epaper