फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजनफ्लॉप फिल्मों पर अनुराग कश्यप की भड़ास- लोगों के पास खर्च करने के लिए पैसे नहीं, फिल्म कहां से देखें

फ्लॉप फिल्मों पर अनुराग कश्यप की भड़ास- लोगों के पास खर्च करने के लिए पैसे नहीं, फिल्म कहां से देखें

साउथ वर्सेस बॉलीवुड और बायकॉट ट्रेंड की हर तरफ चर्चा चल रही है। अनुराग कश्यप ने इस पर अपना रिएक्शन दिया। उन्होंने कहा कि बायकॉट ट्रेंड इस वजह से चलाया जाता है जिससे दूसरी चीजों से ध्यान भटक जाए।

फ्लॉप फिल्मों पर अनुराग कश्यप की भड़ास- लोगों के पास खर्च करने के लिए पैसे नहीं, फिल्म कहां से देखें
Shrilataलाइव हिंदुस्तान,मुंबईMon, 15 Aug 2022 09:05 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

अनुराग कश्यप की फिल्म ‘दोबारा’ अगले शुक्रवार को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। फिल्म में तापसी पन्नू की मुख्य भूमिका है। अनुराग इस वक्त फिल्म के प्रमोशन में व्यस्त हैं। वह हर मुद्दे पर बेबाक तरीके से राय रखते हैं। इस वक्त साउथ वर्सेस बॉलीवुड और बायकॉट ट्रेंड की हर तरफ चर्चा चल रही है। अनुराग ने इन सभी पर अपना रिएक्शन दिया। उन्होंने कहा कि बायकॉट ट्रेंड इस वजह से चलाया जाता है जिससे दूसरी चीजों से ध्यान भटक जाए। लोगों के पास खर्च करने के लिए पैसे नहीं हैं। फिल्म वो तभी देखने जा रहे हैं जब वो निश्चित हो जाते हैं कि यह सभी को पसंद आई है।

‘लोगों के पास पैसे ही नहीं हैं’


अनुराग ने कहा कि बॉलीवुड ही नहीं दूसरी इंडस्ट्री में भी फिल्में नहीं चल रही हैं। उनके बारे में लोगों को पता नहीं है। हिंदी में दो फिल्में चली हैं, तमिल में भी दो ही फिल्में चलीं, तेलुगू और कन्नड़ में एक-एक फिल्में सफल रही हैं। बॉलीवुड नाउ के साथ बात करते हुए अनुराग कश्यप ने कहा, ‘आप बताइए कि कौन सी साउथ की फिल्म पिछले शुक्रवार को रिलीज हुई। उससे पहले शुक्रवार को कौन सी फिल्म रिलीज हुई। नहीं पता ना? क्योंकि वहां भी फिल्में काम नहीं कर रही हैं। समस्या ये है कि लोगों के पास पैसे नहीं है। पनीर पर तो जीएसटी दे रहे हो। खाने के लिए जीएसटी दे रहे हो। उससे ध्यान हटाने के लिए ट्रेंड होता है, बायकॉट ये, बायकॉट वो।‘

जिन फिल्मों का इंतजार हो रहा था वही चलीं


उन्होंने आगे कहा, ‘लोगों के पास पैसे हैं नहीं। लोग फिल्म तब देखने जाना चाहते हैं जब उन्हें लगता है कि यह फिल्म सबको पसंद आ जाए। या फिर उस फिल्म का सालों से इंतजार कर रहे हैं। केजीएफ 2 का सालों से इंतजार हो रहा था। आरआरआर का बाहुबली के बाद से इंतजार हो रहा था। भूल भुलैया सीक्वल है तो उसका सालों से इंतजार हो रहा था। संजय लीला भंसाली की फिल्म लोग देखने गए क्योंकि उसे माउथ पब्लिसिटी मिली। हर चीज ऐसी ही है। गंगूबाई दूसरे और तीसरे दिन तेजी से बढ़ी है। लोगों की जेब में पैसे नहीं है। हमारे देश में अर्थव्यवस्था की हालत खतरनाक है। हमें उसके बारे में बात करना चाहिए। उसके बारे में कोई बात नहीं कर रहा।‘

‘बॉलीवुड और क्रिकेट में उलझा दिया जाता है’


अनुराग कहते हैं, ‘बॉलीवुड और फिल्मों में उलझाकर सारी चीजों से ध्यान भटका दिया जाता है। बॉलीवुड नहीं तो क्रिकेट, ये दो चीज के बारे में  बात करते रहो। लोगों को पता ही नहीं चलेगा कि  हमारे देश में प्रॉब्लम क्या है।‘
 

epaper