फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजन फिल्म रिव्यूShe Hulk Review: 'हल्क' से हल्की साबित हुई 'शी हल्क', जानें क्यों मात खाई मार्वल की नई सीरीज

She Hulk Review: 'हल्क' से हल्की साबित हुई 'शी हल्क', जानें क्यों मात खाई मार्वल की नई सीरीज

She Hulk Review: शो में हल्क के साथ ही साथ बेनेडिक्ट वोंग का भी काफी किरदार है। कहानी में आगे शी हल्क बनीं जेनेफर को क्या क्या मुसीबतें आती हैं और कैसे वो उनसे जूझती है, इसके लिए सीरीज देखनी होगी।

She Hulk Review: 'हल्क' से हल्की साबित हुई 'शी हल्क', जानें क्यों मात खाई मार्वल की नई सीरीज
Avinash Singhहिन्दुस्तान,मुंबईWed, 17 Aug 2022 06:36 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

वेब सीरीज: शी- हल्क अटॉर्नी एट लॉ
निर्देशक: कैट कोइरो (6 एपिसोड्स) और अनु वैलिया (3 एपिसोड्स)
प्रमुख एक्टर्स:तातियाना मसलनी, बेनेडिक्ट वोंग, टिम रोथ, मार्क रफ्फैलो
ओटीटी: डिज्नी प्लस हॉटस्टार

क्या है कहानी: 'शी- हल्क अटॉर्नी एट लॉ' की कहानी की मुख्य पात्र जेनेफर वॉलटर्स (तातियाना मसलनी) है, जो पेशे से एक वकील हैं। जेनेफर, हल्क/ब्रूस बैनर (मार्क रफ्फैलो) की बहन हैं और एक एक्सीडेंट के दौरान उन में हल्क की तरह शक्तियां आ जाती हैं। इस बात का पता लगते ही हल्क उसे ट्रेनिंग देते हैं, ताकि कैसे वो इस दुनिया में खुद को एडजस्ट कर सके, अच्छी सुपरहीरो बन सके और हल्क जैसी तबाही न मचाए। हालांकि जेनेफर को सुपरहीरो नहीं बनना है और एक आम इंसान की तरह अपनी जिंदगी जीनी है। कहानी धीरे- धीरे आगे बढ़ती है और कोर्ट रूम में एक केस के दौरान सभी को पता लग जाता है कि जेनेफर के पास सुपर पावर हैं और उसे फैन्स 'शी हल्क' का नाम देते हैं। इसके बाद जेनेफर एक स्पेशल जस्टिस विंग के लिए काम करती है, जो सुपर नेचुरल पावर वाले लोगों के केस देखती है। शो में हल्क के साथ ही साथ बेनेडिक्ट वोंग का भी काफी किरदार है। कहानी में आगे शी हल्क बनीं जेनेफर को क्या क्या मुसीबतें आती हैं और कैसे वो उनसे जूझती है, ये आपको जानने के लिए इस सीरीज को देखना होगा।

क्या कुछ है खास, कहां खाई मात: मार्वल ने अपने नए फेजेस के साथ ही फिल्मों के साथ एक्सपेरिमेंट्स करना शुरू किया है, कहानी को उलझाने की बजाय सुलझी हुई रखा जा रहा है। वहीं ये भी कोशिश की जा रही है कि आम लोग भी कहानी से खुद को कहीं न कहीं जोड़ सकें। वहीं पुराने फेज की फिल्मों के मुकाबले में ह्यूमर भी बढ़ाया जा रहा है, हालांकि यही बात शायद हार्डकोर मार्वल फैन्स को पसंद नहीं आ रही है। शी हल्क से पहले मिस मार्वल से भी दर्शकों को काफी उम्मीदें थीं लेकिन ऐसा हुआ नहीं। वहीं शी हल्क भी पुरानी मार्वल फिल्म और सीरीज के मुकाबले कमतर साबित होती है। फिल्म में कुछ एक्शन सीन्स और वीएफएक्स काफी बढ़िया है, लेकिन कहानी से लेकर अन्य कई हिस्सों तक मार्वल अपनी ही पुरानी फिल्मों- सीरीज को टक्कर नहीं दे पा रहा है। सीरीज में एक ओर जहां शी हल्क को हल्क की सपोर्ट देखना मजेदार बनाता है तो वहीं वोंग बनकर बेनेडिक्ट को देखना, थोड़ा एक्साइटिड करता है। सिर्फ कहानी ही नहीं, तकनीकी तौर पर भी शी हल्क इम्प्रेस नहीं कर पाती है। 

देखें या नहीं: वैसे तो मार्वल सीरीज की सबसे खास बात यही होती है कि हर सीरीज और फिल्म कहीं न कहीं आपस में थोड़ी बहुत तो जुड़ी ही होती है, या फिर आने वाले वक्त में कहां क्या जुड़ जाए इस बारे में भी पुख्ता तौर पर कुछ कहा नहीं जा सकता है। ऐसे में अगर आप मार्वल फैन हैं तो ये सीरीज आपको देख लेनी चाहिए, लेकिन अगर आप मार्वल फैन नहीं हैं तो इस सीरीज को न देखने पर भी आप कुछ बहुत खास मिस नहीं कर रहे हैं।

(नोट: ये रिव्यू शुरुआती 4 एपिसोड्स के आधार पर है)

लेटेस्ट Entertainment News के साथ-साथ TV News, Web Series और Movie Review पढ़ने के लिए Live Hindustan AppLive Hindustan App डाउनलोड करें।
epaper