फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजन फिल्म रिव्यूKhuda Haafiz 2 Review: विद्युत जामवाल के एक्शन में ही दिखा दम, कमजोर रह गई 'खुदा हाफिज 2' की कहानी

Khuda Haafiz 2 Review: विद्युत जामवाल के एक्शन में ही दिखा दम, कमजोर रह गई 'खुदा हाफिज 2' की कहानी

Khuda Haafiz 2 Review: विद्युत जामवाल, शिवालिका ओबरॉय स्टारर फिल्म खुदा हाफिज चैप्टर 2 आज 8 जुलाई को सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। फिल्म को देखने से पहले उसका रिव्यू एक बार जरूर पढ़ लें।

Khuda Haafiz 2 Review: विद्युत जामवाल के एक्शन में ही दिखा दम, कमजोर रह गई 'खुदा हाफिज 2' की कहानी
Deepali Srivastavaलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीFri, 08 Jul 2022 11:14 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

फिल्म: खुदा हाफिज चैप्टर 2- अग्नि परीक्षा
कास्ट: विद्युत जामवाल, शिवालिका ओबरॉय, रिद्धी शर्मा, शीबा चड्ढा, दिव्येन्दु भट्टाचार्या, राजेश तैलांग
निर्देशक: फारुक कबीर
कहां देखें- सिनेमाघर

एक्टर विद्युत जामवाल को एक्शन हीरो कहा जाता है और उनकी लगभग हर फिल्म में धमाकेदार एक्शन होता है। एक्टर की फिल्म 'खुदा हाफिज चैप्टर 2' आज 8 जुलाई को सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है। ये फिल्म खुदा हाफिज का दूसरा पार्ट है और पहला पार्ट भी फारुक कबीर ने निर्देशित किया था। विद्युत की फिल्म है तो एक्शन होगा ही लेकिन बाकि फिल्म की कहानी क्या है? ये जानने के लिए आपको रिव्यू पढ़ना होगा।

'खुदा हाफिज 2' की कहानी क्या है

लखनऊ से कहानी शुरू होती है जहां समीर चौधरी (विद्युत जामवाल) अपनी पत्नी नरगिस (शिवालिका ओबरॉय) के साथ जिंदगी फिर से जीने की कोशिश कर रहे हैं। नरगिस डिप्रेशन का शिकार है और वह अपने पति से हर वक्त नाराज रहती है। तो वहीं समीर नरगिस की जिंदगी में फिर से खुशियां लाने के लिए एक लड़की नंदिनी (रिद्धी शर्मा) को गोद ले लेता है। नरगिस-समीर की जिंदगी बेहतर होने लगती है और उनका परिवार कंप्लीट हो जाता है। लेकिन कहानी में ट्विस्ट तब आता है जब कुछ लोग 5 साल की बच्ची नंदिनी को किडनैप कर लेते हैं और उसका रेप कर देते हैं। बेटी को बचाने के लिए समीर हर हद तक जाता है लेकिन बचा नहीं पाता है। अब समीर अपनी बेटी के हत्यारों से कैसे बदला लेगा? क्या वह उसे इंसाफ दिला पायेगा?

फारुक कबीर ने किया डायरेक्शन

फारुक कबीर ने फिल्म का पहला पार्ट भी बनाया था और किडनैपिंग के इर्द-गिर्द ही पूरी कहानी लिखी थी। अब 'खुदा हाफिज 2' में भी उन्होंने किडनैपिंग का प्लॉट लिया है लेकिन साथ ही एक गंभीर मुद्दा भी उठाया। फारुक ने रेप के मुद्दे को लेकर फिल्म बनाई है कि देश में बेटियां-महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। डायरेक्टर ने फिल्म में इमोशन खूब डाला लेकिन 'खुदा हाफिज 2' की रफ्तार इतनी धीमी थी कि कनेक्शन नहीं बन पाया। जितन हरमीत सिंह ने सिनेमैटोग्राफी की है, जो थोड़ी और बेहतर हो सकती थी।

स्टार्स की एक्टिंग

विद्युत जामवाल ने 'खुदा हाफिज 2' में दमदार एक्शन और एक्टिंग की है। भारत से लेकर इजिप्ट तक कहानी जाती है और उनके कई एक्शन सीन्स हैं। शिवालिका ओबरॉय को स्क्रीन टाइम कम मिला लेकिन उन्होंने अच्छा काम किया। ठाकुर जी के रोल में शीबा चड्ढा, राशिद कसाई बने दिव्येन्दु भट्टाचार्या, पत्रकार के किरदार में राजेश तैलांग, नंदिनी के रोल में रिद्धी शर्मा ने भी अच्छी एक्टिंग की है।

कहां रह गई कमी

फिल्म 'खुदा हाफिज 2' में मुद्दा काफी गंभीर उठाया गया लेकिन उसकी रफ्तार इतनी धीमी थी, जो नहीं होनी चाहिए थी। फिल्म में कई जगहों पर एडिटिंग की जा सकती थी। बेहतरीन स्टार कास्ट होने के बाद भी 'खुदा हाफिज 2' की कहानी में जान नहीं आ पाई। फिल्म का बैकग्राउंड म्यूजिक कमजोर रहा और साथ ही ऐसा कोई गाना नहीं है जो आपके दिमाग में फिल्म देखने के बाद ठहर सके।

ये भी पढ़ें- अपनी जान जोखिम में डालकर बिल्डिंग में काम कर रहे फैन से मिलने पहुंचे विद्युत जामवाल, देखकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे

क्यों देखें फिल्म

अगर आप विद्युत जामवाल के फैन हैं या एक्शन फिल्मों के शौकीन हैं तो 'खुदा हाफिज 2' को एक बार देख सकते हैं। फिल्म में आपको शुरू से लेकर आखिर तक एक्शन देखने को मिलेगा।

epaper