Hindi Newsएंटरटेनमेंट न्यूज़बॉलीवुडKalki 2898 AD Prabhas Movie Story Begins with Mahabharat War Time Reveals Director

Kalki 2898 AD: महाभारत से शुरू होगी 'कल्कि' की कहानी, प्रभास की फिल्म में 6000 सालों का सफर

  • Kalki 2898 AD Movie Story: सुपरस्टार प्रभास की पिछली फिल्म 'सालार' ब्लॉकबस्टर हिट रही और अब दर्शकों को उनकी अगली फिल्म का इंतजार है जिसका टीजर काफी पहले रिलीज किया जा चुका है। अब फैंस को इस फिल्म की रिलीज का इंतजार है।

Puneet Parashar लाइव हिन्दुस्तानTue, 27 Feb 2024 06:52 AM
हमें फॉलो करें

नाग अश्विन के निर्देशन में बनी फिल्म Kalki 2898 AD अनाउंस के वक्त से ही सुर्खियों में बनी हुई है। फिल्म में सुपरस्टार प्रभास लीड रोल प्ले कर रहे हैं और उनके अलावा अमिताभ बच्चन, दीपिका पादुकोण, कमल हासन और दिशा पाटनी जैसे सितारों ने भी इसमें अहम किरदार निभाए हैं। फिल्म का टीजर तो काफी वक्त पहले रिलीज कर दिया गया था, लेकिन इसकी कहानी के बारे में अभी तक कोई खास जानकारी सामने नहीं आई है। अब डायरेक्टर अश्विन ने इस बारे में जानकारी साझा की है।

महाभारत से शुरू होगी Kalki 2898 AD

फिल्म को लेकर दर्शकों के दिलों में एक्साइटमेंट डबल करते हुए नाग अश्निन ने एक इवेंट में बताया कि Kalki 2898 AD की कहानी महाभारत के युद्ध से शुरू होती है। उन्होंने कहा, "फिल्म महाभारत से शुरू होगी और 2898 AD पर खत्म होगी। इस फिल्म में 6000 सालों का वक्त दिखाया गया है। हमने चीजों को ब्लेड रनर जैसा बनाने की बजाए भारतीय रखते हुए कुछ दुनिया बनाने की कोशिश की हैं और कल्पना की है कि वो कैसी होंगी।"

कृष्ण चले गए थे तब से शुरू होगी कहानी

दर्शकों को रोमांच से बरते हुए डायरेक्टर नाग अश्विन ने कहा कि फिल्म 2898 AD से 6000 साल पहले 3102 BC में शुरू होती है और यह तब का वक्त है जब ऐसा माना जाता है कि कृष्ण चले गए थे। उन्होंने बताया कि फिल्म को बनाने के दौरान उन्होंने AI का इस्तेमाल नहीं किया है जो कि आजकल बहुत ज्यादा लोकप्रिय हो रहा है। अश्विन ने कहा, "हमने बहुत सारे सेट, डिजाइन और वाहन फिल्म के लिए तैयार किए। इसको सोचना, बनाना, प्रोटोटाइप बनाना, मशीनरी बनाना, पुराना लुक देना, इस सबमें काफी लंबी प्रक्रिया फॉलो करनी थी।"

फिल्म बनाने में नहीं किया AI का इस्तेमाल

निर्देशक ने बताया कि अगर उन्होंने AI का इस्तेमाल किया होता तो चीजें उनके लिए बहुत आसान होतीं। क्योंकि तब उन्हें इतना तामझाम नहीं करना पड़ता। वो बस AI के रिजल्ट्स के आधार पर VFX बनवा लेते। उन्होंने कहा कि कई बार वो भी यह सोचते हैं कि उनकी प्रक्रिया के दौरान क्या कहीं पर कोई जादू हुआ है। क्योंकि इस काम को करने में उन्होंने महीनों का समय लिया जिसमें कुछ नया जरूर हुआ होगा। क्योंकि अगर चीजें आसानी से हो जा रही हैं तो फिर आप कुछ ना कुछ मिस कर रहे हैं।

ऐप पर पढ़ें