DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रेशर कुकर चुनाव चिह्न: न्यायालय का टीटीवी दिनाकरण का इस पर दावा मानने से इंकार

dhinakaran ht photo

उच्चतम न्यायालय ने टीटीवी दिनाकरण के नेतृत्व वाले गुट का 'प्रेशर कुकर चुनाव चिह्न पर एक समान चुनाव चिह्न के रूप में दावा स्वीकार करने से मंगलवार को इंकार कर दिया।
हालांकि, शीर्ष अदालत ने निर्वाचन आयोग को निर्देश दिया कि वह आगामी लोकसभा चुनाव और तमिलनाडु तथा पुडुचेरी विधानसभा की सीटों के लिये होने जा रहे उपचुनाव के लिये दिनाकरण गुट के प्रत्याशियों को एक समान चुनाव चिह्न उपलब्ध कराने पर विचार करे।
प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने स्पष्ट किया कि निर्वाचन आयोग को एक समान चुनाव चिह्न आबंटित करने पर विचार करने संबंधी उसके आदेश का मतलब दिनाकरण के नेतृत्व वाले अन्नाद्रमुक गुट को राजनीतिक समूह के रूप में मान्यता देना नहीं है और इस गुट के प्रत्याशियों को सभी कार्यो के लिये निर्दलीय ही माना जायेगा।
पीठ ने कहा कि दिनाकरण गुट का राजनीतिक दल के रूप में पंजीकरण करने का काम निर्वाचन आयोग का है और इस बारे में वही उचित कदम उठायेगा।
पीठ ने कहा कि इस गुट द्वारा उसके समक्ष पेश सूची में शामिल 59 प्रत्याशियों को उपलब्ध चुनाव चिह्न में से एक समान चुनाव चिह्न देने पर विचार करने का उसका निर्देश समान अवसर और स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिये है।
दिनाकरण गुट द्वारा पेश सूची में तमिलनाडु की 39 और पुडुचेरी की एक संसदीय सीट के प्रत्याशियों के नाम शामिल हैं। इसी तरह, तमिलनाडु विधान सभा की 18 और पुडुचेरी विधान सभा की एक सीट के लिये हो रहे उपचुनाव के लिये इस समूह के 19 प्रत्याशियों के नामों की सूची है।
 इस मामले की सुनवाई के दौरान निर्वाचन आयोग के वकील ने कहा कि दिनाकरण के नेतृत्व वाले गुट को एक समान प्रेशर कुकर चुनाव चिह्न नहीं दिया जा सकता है क्योंकि वह पंजीकृत राजनीतिक दल नहीं है।
 पलानीस्वामी के नेतृत्व वाले अन्नाद्रमुक से शशिकला के निष्कासन के बाद दिनाकरण ने अम्मा मक्कल मुन्नेत्र कषगम का गठन किया था।
      

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pressure Cooker Symbol:court refuses TTV Dhinakaran claim over pressure cooker symbol