DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सत्ता संग्राम: राजस्थान में बगावत रोकने में जुटी कांग्रेस

rahul gandhi

राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन की तिथि करीब आने के साथ कांग्रेस की धड़कनें बढ़ती जा रही हैं। पार्टी की परेशानी की वजह टिकट के दावेदारों के बगावती तेवर हैं। इसलिए पार्टी ने टिकट की दावेदारी कर रहे मजबूत नेताओं के निपटने के लिए रणनीति तैयार कर ली है। ताकि उम्मीदवारों के ऐलान के बाद बगावत को रोका जा सके। हर पांच साल के बाद राजस्थान में सरकार बदलती रही है। ऐसे में इस बार कांग्रेस की जीत की संभावना अधिक है। लोकसभा और विधानसभा के उपचुनावों में भाजपा की हार से साफ है कि इन चुनाव में कांग्रेस जीत सकती है। जीत की इस उम्मीद के कारण राजस्थान में टिकट के दावेदारों की संख्या बढ़ गई है। टिकट के लिए तीन हजार से अधिक आवेदन मिले हैं।

पार्टी रणनीतिकार मानते हैं कि हर सीट पर करीब आधा दर्जन दावेदार टिकट को लेकर गंभीर हैं। जबकि एक विधानसभा क्षेत्र में उम्मीदवार एक ही होगा। लिहाजा इस बार पिछले चुनावों के मुकाबले बगावत अधिक हो सकती है। टिकट नहीं मिलने से नाराज पार्टी नेता और कार्यकर्ता कांग्रेस के अधिकृत उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव न लड़े, इसके लिए पार्टी ने तैयारी शुरू कर दी है। 

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत साफ कर चुके हैं कि हर किसी को टिकट नहीं मिल सकता। पर काम करने वालों को हम उचित रूप से समायोजित करेंगे। संदेश साफ है कि सरकार बनी तो मजबूत नेताओं को किसी न किसी पद से नवाजा जाएगा। इसलिए टिकट नहीं मिलने की स्थिति में बगावत की बजाय इंतजार करें।

सर्वे: मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में भाजपा आगे, राजस्थान में कांग्रेस को बढ़त

दरअसल वर्ष 2013 के चुनाव में कांग्रेस पांच हजार से कम अंतर से 26 सीटों पर हारी थी। पार्टी के एक नेता ने कहा कि कम अंतर वाली सीट पर बागी उम्मीदवार चुनाव प्रभावित कर सकते हैं। इसलिए पार्टी हर क्षेत्र में गंभीर और मजबूत उम्मीदवारों के संपर्क में है। ताकि टिकट नहीं मिलने की स्थिति में समझा-बुझाकर उन्हें बगावत से रोका जा सके।

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में पार्टी ने अधिकृत उम्मीदवारों का विरोध करने वाले 17 नेताओं के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की थी। पार्टी साफ संदेश दे रही है कि चुनाव में कोई नेता या कार्यकर्ता लक्ष्मण रेखा पार करता है तो पार्टी उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी। पार्टी ने चुनाव के लिए अनुशासन समिति का भी गठन कर दिया है। राजस्थान में सात दिसंबर को वोट डाले जाएंगे।

सत्ता संग्राम: राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी सचिवों की जिम्मेदारी बदली

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Congress party trying to stop rebellion in Rajasthan assembly elections