फोटो गैलरी

Hindi News चुनाव लोकसभा चुनाव 2024शत्रुघ्न सिन्हा को किससे मिलेगी टक्कर? क्या है आसनसोल सीट पर भाजपा का गणित

शत्रुघ्न सिन्हा को किससे मिलेगी टक्कर? क्या है आसनसोल सीट पर भाजपा का गणित

रेस में एक और नया शामिल हुआ है। पूर्व विधायक जितेंद्र तिवारी की भी दावेदारी मानी जा रही है। वह स्थानीय होने के साथ-साथ हिंदी भाषी क्षेत्र से आते हैं।यहां के लोग स्थानीय उम्मीदवार की भी मांग कर रहे है।

शत्रुघ्न सिन्हा को किससे मिलेगी टक्कर? क्या है आसनसोल सीट पर भाजपा का गणित
Himanshu Jhaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्ली।Wed, 07 Feb 2024 02:02 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं हुआ लेकिन, राजनीतिक दलों ने तैयारी शुरू कर दी है। पश्चिम बंगाल की आसनसोल लोकसभा सीट पर भी लड़ाई दिलचस्प होने वाली है। टीएमसी से यहां वर्तमान में शत्रुघ्न सिन्हा लोकसभा सांसद हैं। इस सीट पर 2019 में बीजेपी के टिकट पर बाबुल सुप्रियो ने जीत हासिल की थी। हालांकि, उन्होंने भगवा पार्टी से इस्तीफा दे दिया और फिर टीएमसी ने यहां शत्रुघ्न सिन्हा को मैदान में उतारा। उन्होंने उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी अग्निमित्रा पाल को हराकर शानदार जीत हासिल की थी। ऐसे में अब बीजेपी के संभावित उम्मीदवारों की चर्चा जोर पकड़ ली है।

इस सीट का समीकरण अभी बाहरी बनाम स्थानीय का है। यह हिंदी भाषी क्षेत्र है। इस बात की संभावना है कि इस सीट से हिंदी भाषी प्रदेश के किसी नेता को मौका मिले। भाजपा की ओर से संभावित प्रत्याशियों की रेस में 3 चेहरे आगे चल हैं। इसमें एक बड़ा चेहरा मिथुन चक्रवर्ती का है, हालांकि जादवपुर सीट के लिए भी उनका नाम चल रहा है। 

वहीं दूसरा नाम पूर्व प्रत्याशी और भाजपा की महिला मोर्चा की अध्यक्षा अग्निमित्रा पॉल का आता सामने है। अग्निमित्रा भाजपा की महिला चेहरा हैं। इस सीट से प्रत्याशी रह चुकी हैं। इसलिए उनकी दावेदार मानी जा रही है। हालांकि, वह 3 लाख वोटों से चुनाव हार गई थीं। 

इस रेस में एक और नया शामिल हुआ है। पूर्व विधायक जितेंद्र तिवारी की भी दावेदारी मानी जा रही है। वह स्थानीय होने के साथ-साथ हिंदी भाषी क्षेत्र से आते हैं। यहां के लोग स्थानीय उम्मीदवार की भी मांग कर रहे हैं। औरों की तरह वह पार्टी के काम में जुटे रहते हैं। उन्होंने हाल ही में 150 से ज्यादा रेलवे हॉकरों को टीएमसी से भाजपा में शामिल कराया था। जितेंद्र तिवारी मूल रूप से बिहार के छपरा के रहने वाले हैं, लेकिन उनका जन्म आसनसोल में ही हुआ था। उनकी पत्नी बंगाली हैं।

आसनसोल सीट पर राम मंदिर और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता का भी असर देखने को मिल रहा है। ऐसे में बीजेपी किस मुद्दे को ध्यान में रखते हुए उम्मीदवार तय करेगी यह आने वाला समय बताएगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें