DA Image

अगली स्टोरी

भारतीय जनता पार्टी

भारतीय जनता पार्टी का गठन 1980 में हुआ। इससे पहले 1977 से 1979 तक इसे जनता पार्टी और 1951 से 1977 तक भारतीय जन संघ के नाम से जाना जाता रहा था।

भारतीय जनता पार्टी का इतिहास तीन हिस्सों में बांटा है-
भारतीय जन संघ-

इसकी स्थापना श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने 1951 में की। पार्टी को पहले आम चुनाव में कोई ख़ास सफलता नहीं मिली लेकिन इसे पहचान जरूर मिली। भारतीय जन संघ ने शुरू से ही कश्मीर की एकता, गौ रक्षा, ज़मींदारी प्रथा और परमिट-लाइसेंस-कोटा राज ख़त्म करने जैसे मुद्दों पर ज़ोर दिया। 1975 में आपातकाल के दौरान दूसरी विपक्षी पार्टियों की तरह जन संघ के भी हज़ारों कार्यकर्ता और नेता जेल गए।

जनता पार्टी-

1977 में आपातकाल की समाप्ति के बाद हुए चुनावों में कांग्रेस की हार हुई। मोरारजी देसाई प्रधानमंत्री बने और भारतीय जन संघ के अटल बिहारी वाजपेयी को विदेश मंत्री और लालकृष्ण आडवाणी को सूचना और प्रसारण मंत्री बनाया गया। लेकिन आपसी गुटबाज़ी और लड़ाई की वजह से ये सरकार 30 महीनों में ही गिर गई।

भारतीय जनता पार्टी-
1980 के चुनावों में विभाजित जनता पार्टी की हार हुई। भारतीय जन संघ जनता पार्टी से अलग हुआ और इसने अपना नाम बदल कर भारतीय जनता पार्टी रख लिया। अटल बिहारी वाजपेयी पार्टी इसके अध्यक्ष बने। भाजपा ने बोफ़ोर्स तोप सौदे को लेकर तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी को घेरा। 1989 के चुनावों में भाजपा ने विश्वनाथ प्रताप सिंह के नेतृत्व वाले जनता दल से सीटों का तालमेल किया। इन चुनावों में भाजपा ने लोकसभा में अपने सदस्यों की संख्या1984 में दो से बढ़ाकर 89 तक पहुंचाई। विश्वनाथ प्रताप सिंह सरकार को भाजपा ने बाहर से बिना शर्त समर्थन दिया। बाद में पार्टी नेताओं ने अपने इस फ़ैसले को अनुचित भी ठहराया।

चुनाव चिह्न्: कमल

पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्षः अमित शाह

छत्तीसगढ़ भाजपा अध्यक्षः धरम लाल कौशिक 

  • 1
  • of
  • 14180

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

  • 1
  • of
  • 14180

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

  • 1
  • of
  • 14180

पप्पू का मेहमान से अजीब सवाल

पप्पू (मेहमान से) : ठंडा लोगे या गर्म?
मेहमान: दोनों ले आओ...
पप्पू: फेकू.. एक गिलास फ्रीजर से और दूसरा गिलास गीजर से पानी ले आओ...