DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पटना: नाबालिग से 17 दिनों में दोबारा गैंगरेप, बगीचे में बेहोश मिली छात्रा

बिहार में पटना के बिक्रम थाना क्षेत्र में नाबालिग छात्रा (13 वर्षीय) से गांव के ही तीन युवकों ने गैंगरेप किया। अपराधियों ने दुस्साहस दिखाते हुए दूसरी बार गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया। इसके पहले 12 अगस्त को भी बदमाशों ने लड़की से गैंगरेप किया था। तब छात्रा को धमकी दी थी कि मुंह खोलने पर जान से मार देंगे। लड़की डर के मारे चुप रह गयी। 29 अगस्त को दोबारा अपराधियों ने घटना को अंजाम दिया। छात्रा एक बगीचे में बेहोशी की हालत में मिली। होश में आने के बाद उसके बयान पर महिला थाने में एफआईआर दर्ज की गई है।  लड़की के बयान पर राहुल कुमार, बसावन कुमार औंर किशन कुमार के खिलाफ पॉक्सो और रेप की धाराओं में प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया कि शुक्रवार को कोर्ट में 164 के तहत लड़की का बयान दर्ज कराया जाएगा। 


मुंह पर रुमाल रख बेहोश किया : पुलिस को दिए बयान में पीड़ित छात्रा ने कहा है कि बुधवार शाम वह बगीचे में गई थी। इसी दौरान पड़ोस के ही इन लड़कों ने मुंह पर रुमाल रख कर उसे बेहोश कर दिया। इसके बाद आरोपितों ने उसके साथ गैंगरेप किया। पीड़िता ने एफआईआर में कहा है कि 12 अगस्त को भी उसके साथ इन लड़कों ने गलत काम किया। तब उसे और उसके परिवार को जान से मारने की धमकी भी दी थी।  

दोबारा जान से मारने की मिली धमकी : बुधवार को हुई घटना के बाद भी आरोपितों ने छात्रा और परिजनों को धमकी दी। परिजनों को फोन आया कि इस मामले में किसी ने केस किया तो उसे जान से मार देंगे। छात्रा बेहद साधारण परिवार से है। उसके पिता मजदूरी करते हैं। छात्रा चार बहन और दो भाई हैं। दो बहनों की शादी हो चुकी है। सबसे छोटी छात्रा ही है। आरोपित दबंग हैं।

माता-पिता गए हुए थे देवघर : घटना के दिन छात्रा के माता-पिता देवघर गए हुए थे। गुरुवार सुबह वे घर पहुंचे तो छोटी बेटी के लापता होने की जानकारी मिली। बड़ी बहन ने अपने माता-पिता को बताया कि बहन रात से ही लापता है। सुबह में जब परिजन खोजबीन को निकले तो बगीचे में बेटी बेहोशी की हालत में मिली। 

मुखिया ने चुप रहने को कहा : परिजनों का कहना है जब वे मुखिया के पास गए तो उन्होंने कहा कि समाज में बदनामी होगी। चुप रहना ही बेहतर है। अंत में परिजन महिला थाना पहुंचे और फिर केस दर्ज कराया।

थाने में नहीं थी महिला कांस्टेबल : परिजनों का कहना है कि वे बिक्रम थाना में केस दर्ज कराने गए थे। लेकिन थाने में महिला कांस्टेबल नहीं थीं। थानाध्यक्ष विनोद कुमार ने पुलिस संरक्षण में पीड़िता को उसके परिजनों के साथ महिला थाना में केस दर्ज कराने के लिए पटना भेजा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:13 year old girl gang raped twice in 17 days in bikram patna