DA Image
16 जुलाई, 2020|5:59|IST

अगली स्टोरी

युवराज सिंह ने चुना सबसे मुश्किल बॉलर, बताया सचिन तेंदुलकर ने कैसे की थी मदद

युवराज सिंह ने कहा, ''मैंने मुरलीधरण के खिलाफ सही अर्थों में संघर्ष किया। मेरे पास उनकी गेंदों का कोई क्ल्यू नहीं होता था।''

yuvraj singh photo ht

पूर्व भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह ने वनडे के अपने करियर में फैन्स को कुछ यादगार पल दिए हैं। अपनी पीढ़ी के सबसे साहसिक बल्लेबाजों में से एक पंजाब के इस क्रिकेटर में स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में छह छक्के लगाने क्षमता थी। जब उनसे पूछा गया कि किस  गेंदबाज को खेलने में उन्हें सबसे ज्यादा दिक्कत आती थी और उन्होंने श्रीलंका के दिग्गज स्पिनर मुथैया मुरलीधरण का नाम लिया। 

युवराज सिंह ने स्पोर्ट्स स्टार को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि जब वह ऑस्ट्रेलियन  पेसर ग्लेन मैकग्रा का सामना करते थे, तब भी उन्हें परेशानी होती थी। वह कोशिश करते थे कि इस ऑस्ट्रेलियन पेसर को सामना कम से कम  करना  पड़े।''

Live चैट में रोहित ने पंत को किया ट्रोल, बोले- 'एक साल हुआ नहीं उसको क्रिकेट खेलके मेरे से मुकाबला करेगा'

उन्होंने कहा, ''मैंने मुरलीधरण के खिलाफ सही अर्थों में संघर्ष किया। मेरे पास उनकी गेंदों का कोई क्ल्यू नहीं होता था। ग्लेन मैकग्रा ने भी मेरे सामने दिक्कतें पेश कीं, लेकिन मैंने उनके बहुत ज्यादा सामना नहीं किया क्योंकि टेस्ट में मैं अक्सर बाहर बैठता था।''

युवराज सिंह को 2011 के विश्व कप में 'प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट' घोषित किया गया था। उन्होंने बताया कि सचिन तेंदुलकर ने मुझे मुरलीधरण को खेलने में मदद की। उन्होंने मुझे बताया कि मैं मुरलीधरण को स्वीप करना शुरू करूं। 

युवराज उन खिलाड़ियों में हैं जो भारतीय कप्तान सौरव गांगुली के नेतृत्व में चैंपियन बन कर उभरे, लेकिन कैंसर से उबरने के बाद जब उनकी टीम में वापसी हुई तो वह बेस्ट फॉर्म में दिखाई नहीं दिए। उन्हें टीम से बाहर निकाल दिया गया। 

रोहित शर्मा और जसप्रीत बुमराह ने युजवेंद्र चहल को किया जमकर ट्रोल- VIDEO

उन्होंने कहा कि उन्हें महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली से उस तरह की मदद नहीं मिली, जैसी सौरव से मिली थी। उन्होंने कहा, ''मैं सौरव के नेतृत्व में खेला और उन्होंने मुझे बहुत सपोर्ट किया। इसके बाद धोनी ने कप्तानी संभाली। सौरव और माही में से बेस्ट चुनना मेरे लिए बहुत मुश्किल है। मेरे पास सौरव के नेतृत्व में अच्छी यादें हैं। मुझे माही और कोहली से वैसा सहयोग नहीं मिला जैसा गांगुली से मिला।''

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Yuvraj Singh picks toughest bowler he faced as muttiah muralitharan and how Sachin Tendulkar helped him