DA Image
25 जनवरी, 2021|5:05|IST

अगली स्टोरी

साहा ने पंत के साथ तुलना को लेकर खुलकर रखी अपनी बात, कहा- फैसला करना टीम मैनेजमेंट का काम

rishabh pant and wriddhiman saha

टीम इंडिया के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा और ऋषभ पंत के बीच तुलना पिछले काफी समय से की जा रही है। साहा ने इसको लेकर खुलकर बात की है। उन्होंने माना है कि वह पंत से बेहतर बल्लेबाज हैं और साथ ही टीम इंडिया के टेस्ट प्लेइंग इलेवन कॉम्बिनेशन को लेकर भी अपनी बात रखी है। हिन्दुस्तान टाइम्स को दिए इंटरव्यू में साहा ने कहा कि वह शुरू से खुद को पहले विकेटकीपर के तौर पर और फिर बल्लेबाज के तौर पर देखते हैं। साहा ने साथ ही कहा कि एडिलेड टेस्ट में उन्हें प्लेइंग इलेवन में जगह मिली है, इसके बारे में उन्हें मैच से कुछ देर पहले ही पता चला था। चलिए जानते हैं पंत और खुद के बीच प्रतिस्पर्धा को लेकर साहा का क्या नजरिया है-

सवालः आपके प्रदर्शन पर आते हैं, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टेस्ट में जब ऋषभ पंत की जगह आपको प्लेइंग इलेवन में जगह मिली थी, तो क्या आपको हैरानी हुई थी?

जवाबः देखिए, यह कप्तान और मैनेजमेंट की कॉल होती है। एडिलेड में मैच से पहले ही मुझे बताया गया था कि मैं प्लेइंग इलेवन का हिस्सा हूं। लेकिन इसका क्या कारण था और क्या इसको लेकर कोई चर्चा हुई थी, इसके बारे में मुझे कुछ नहीं पता। मेरा काम था कि मैं अपना बेस्ट दूं जब भी मुझे टीम में चुना जाए और मैं ऐसा नहीं कर पाया, प्रोफेशनल खेल में ऐसा हो जाता है।

चेन्नई टेस्ट से पहले ENG टीम को इतने दिन ही मिलेंगे प्रैक्टिस के लिए

सवालः पंत अच्छे बल्लेबाज हैं और आप बेहतर विकेटकीपर, आप इस बारे में क्या सोचते हैं?

जवाबः यह सच है और आप इस बात से मुकर नहीं सकते हैं। बचपन से ही मैंने खुद को पहले विकेटकीपर और फिर बल्लेबाज की तरह देखा है। मुझे नहीं पता कि ऋषभ इस बारे में क्या सोचते हैं। लेकिन जब वह बीच के ओवरों में खेलता है और अपनी स्टाइल से खेलता है, तो अलग ही कॉन्फिडेंस आ जाता है। उसे इस तरह से खेलकर सफलता मिलती है। एक बार यह फिर से टीम मैनेजमेंट का कॉल होगा कि क्या वह एक अतिरिक्त बल्लेबाज को खिलाना चाहेंगे या फिर एक स्पेशलिस्ट विकेटकीपर को।

सवालः क्या इससे आपके खुद के कॉन्फिडेंस और लय पर फर्क नहीं पड़ता?

जवाबः यह किसी और देश में नहीं होता है। टीम फॉर्मैट के हिसाब के विकेटकीपर बदलती हैं। लेकिन एक ही फॉर्मैट में दो विकेटकीपर को बदलते रहना ऐसा नहीं होता है, लेकिन हम सभी प्रोफेशनल क्रिकेटर्स हैं और हमें टीम मैनेजमेंट पर भरोसा बनाए रखना चाहिए। अगर उन्हें लगता है कि एक ही मैच के बाद बदलाव होना चाहिए तो एक खिलाड़ी के तौर पर हमें यह स्वीकार करना होता है।

मुश्ताक अली ट्रॉफीः नॉकआउट मैचों पर होगी IPL फ्रेंचाइजी टीमों की नजरें

सवालः क्या आपने कभी पंत से इस बारे में चर्चा की है?

जवाबः सच कहूं तो ज्यादा नहीं। इसको लेकर मुझे कोई दिग्गत नहीं है, मुझे भरोसा है कि पंत को भी नहीं होगी। मैं चाहता हूं कि वह अच्छा करें जब भी वह खेलें और मुझे लगता है कि वह भी ऐसा ही चाहते होंगे। अंत में हम दोनों ही भारत को जिताने के लिए खेलते हैं।

सवालः क्या पंत आपके पास किसी सलाह के लिए आते हैं? 

जवाबः नहीं, मैं उन्हें ऐसी कोई सलाह नहीं देता हूं, प्रैक्टिस के दौरान छोटी-मोटी बातें होती रहती हैं। अगर मुझे लगता कि किसी खास विकेट पर विकेटकीपिंग के दौरान किसी खास बात का ध्यान रखना है तो मैं कोशिश करता हूं कि वह उन्हें बता दूं। जब हम फील्डिंग कोच के साथ कीपिंग ड्रिल्स करते हैं तो हम कई सारी बातों पर चर्चा करते हैं। कई बार हम इस पर भी बात करते हैं कि पिछले मैच में कहां चूक हुई थी और फिर अगले मैच के लिए रणनीति बनाते हैं। इससे हम दोनों को मदद मिलती है।

सवालः इंग्लैंड सीरीज को लेकर आप क्या सोच रहे हैं?

जवाबः मेरे लिए अभी यह फैमिली टाइम है। जब मैं वापस बायो बबल में पहुंचूंगा तो इसके बारे में सोचूंगा। हम उनके मजबूत पक्ष पर चर्चा करेंगे और साथ ही देखेंगे कि विकेट कैसा होता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Wriddhiman Saha exclusive interview Saha opens up on battle with Pant for keeper s slot in test team