फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटटीम इंडिया का टेस्ट सीरीज विनिंग मोमेंट वायरल, राहुल द्रविड़ और रोहित शर्मा के चेहरे पर थी अलग खुशी

टीम इंडिया का टेस्ट सीरीज विनिंग मोमेंट वायरल, राहुल द्रविड़ और रोहित शर्मा के चेहरे पर थी अलग खुशी

टीम इंडिया का इंग्लैंड के खिलाफ रांची में टेस्ट सीरीज विनिंग मोमेंट देखने लायक था। मैदान पर शुभमन गिल और ध्रुव जुरेल एक्साइटेड थे तो कोच राहुल द्रविड़ ड्रेसिंग रूम में जीत के बाद अलग उत्साह में नजर आए

टीम इंडिया का टेस्ट सीरीज विनिंग मोमेंट वायरल, राहुल द्रविड़ और रोहित शर्मा के चेहरे पर थी अलग खुशी
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 27 Feb 2024 08:53 AM
ऐप पर पढ़ें

टीम इंडिया ने रांची के मैदान पर पांच मैचों की टेस्ट सीरीज का चौथा मुकाबला जीता और इसी के साथ इस सीरीज में अजेय बढ़त बना ली। टीम इंडिया ने एक तरह से 3-1 से सीरीज अपने नाम कर ली है, लेकिन अभी सीरीज का आखिरी मुकाबला बाकी है। भले ही टीम इंडिया धर्मशाला में आयोजित होने वाले मैच को हार जाए तो भी सीरीज टीम इंडिया के नाम 3-2 से होगी। वहीं, अगर रांची में खेले गए इस मैच की बात करें तो विनिंग मोमेंट देखने लायक था, क्योंकि मैदान पर ध्रुव जुरेल और शुभमन गिल खुशी से झूम उठे, जबकि ड्रेसिंग रूम में राहुल द्रविड़ अलग मूड में नजर आए। 

रांची में रोमांचक टेस्ट मैच में टीम इंडिया ने पांच विकेट से जीत दर्ज की। एक समय पर जीत कठिन लग रही थी, क्योंकि 5 विकेट 120 रन पर गिर थे। अभी भी जीत के लिए 72 रन बनाने थे। शुभमन गिल का साथ देने के लिए ध्रुव जुरेल आए, जिन्होंने पहली पारी में 90 रन बनाए थे। जुरेल ने शानदार बल्लेबाजी की और गिल से दबाव हटाया। जल्द ही दोनों ने टीम को आगे बढ़ाया और जीत के करीब पहुंचा दिया। इसके बाद शुभमन गिल ने दो छक्के लगाकर अर्धशतक पूरा किया और फिर विनिंग रन ध्रुव जुरेल के बल्ले से निकले। इसके बाद दोनों बल्लेबाज मैदान पर झूमने लगे। 

वहीं, ड्रेसिंग रूम में टीम इंडिया के हेड कोच राहुल द्रविड़, फील्डिंग और बैटिंग कोच के साथ-साथ अन्य सपोर्ट स्टाफ के सदस्य, खिलाड़ी और कप्तान रोहित शर्मा खुश नजर आए। सीरीज जीतने का अहसास ही अलग होता है। एक ऐसी टीम के लिए जीतना कठिन था, जिसके पास ना तो अनुभवी बल्लेबाज थे और ना ही अनुभवी तेज गेंदबाज। विराट कोहली, केएल राहुल, जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी जैसे खिलाड़ी टीम का हिस्सा नहीं थे। यहां तक कि मध्य क्रम को सिर्फ कुछ-कुछ मैचों का अनुभव था। नंबर 4, 5 और 7 के बल्लेबाज को 2-2, 3-3 मैचों का अनुभव था।   

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें