DA Image
3 जून, 2020|9:02|IST

अगली स्टोरी

मुशफिकुर रहीम जैसे विकेटकीपर्स की स्लेजिंग करती है विराट कोहली को प्रेरित

विराट कोहली ने कहा, ''टारगेट का पीछा करने में मैं दवाब महसूस नहीं करता। मैं इसे एक मौके की तरह लेता हूं। मैं कोशिश करता हूं कि आउट ना होऊं और टीम को जीतते हुए देखूं।''

virat kohli photo instagram

वनडे और टी-20 क्रिकेट में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली रन चेज करने के मामले में मास्टर हैं। विराट कोहली टारगेट का पीछा करना पसंद करते हैं और दूसरी पारी में बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने भारत के लिए कई मैच जीते हैं। रन मशीन के नाम से लोकप्रिय विराट ने हाल ही में बताया कि रन चेज करने के मामले में उनकी प्रेरणा क्या होती है। बांग्लादेशी क्रिकेट टीम के वनडे कप्तान तमीम इकबाल के साथ फेसबुक के एक लाइव सेशन में विराट ने बताया कि किस तरह विकेटकीपर्स उन्हें प्रेरित करते हैं।

विकेटकीपर्स की स्लेजिंग विराट कोहली को प्रेरणा देती है। बांग्लादेश के विकेटकीपर मुशफिकुर रहीम का उदाहरण देते हुए विराट ने बताया कि किस तरह से विकेटों के पीछे से आ रहे कड़े शब्द उन्हें और आक्रामक होने के लिए प्रेरित करते हैं। 

शिखर धवन पर डेविड वॉर्नर के कमेंट से खुश नहीं है इरफान पठान, बोले- मुझे बिलकुल पसंद नहीं आया

मुशफिकुर स्टम्प्स के पीछे कुछ कहते हैं और मैं प्रेरित हो जाता हूं
विराट कोहली ने बताया, ''कई बार मुशफिकुर रहीम जैसे विकेटकीपर स्टंप्स के पीछे से कुछ कहते  हैं और मैं मोटिवेटिड हो जाता हूं। आपको आत्मविश्वास की जरूरत होती है। मैं मैदान पर कभी भी अपने ऊपर शक नहीं करता।'' लक्ष्य का पीछा करने में माहिर कोहली ने कहा कि बचपन में भारतीय टीम के मैचों को देखकर वे सोचते थे कि वह टीम की जीत में मदद कर सकते थे। 

बचपन में सोचता था कि मैं इस मैच में जीत दिला सकता था
उन्होंने कहा, ''ईमानदारी से कहूं तो जब मैं बच्चा था और भारतीय टीम के मैच देखता था तो उनके हारने के बाद सोते समय सोचता था कि मैं मैच जीत दिला सकता था। अगर मैं 380 रन के लक्ष्य का पीछा कर रहा हूं तो मैं कभी महसूस नहीं करता कि इसे हासिल नहीं किया जा सकता।''

शोएब अख्तर बोले, अगर इस युग में खेल रहे होते तो 1.30 लाख से ज्यादा रन बनाते सचिन तेंदुलकर

रन चेज को मौके की तरह लेता हूं
31 साल के विराट कोहली के रन चेज के मामले में भारत को जीत दिलाने का रिकॉर्ड इसका सबूत हैं। भारत की तरफ से टारगेट का पीछा करते हुए विराट कोहली ने 142 मैचों में 68.33 के औसत से  7,039 रन बनाए हैं। रन चेज पर विराट कोहली ने कहा, ''पीछा करना एक ऐसी स्थिति है जिसमें आप जानते हैं कि कितना स्कोर करना है और कैसे रन बनाना है। इससे अधिक स्पष्ट स्थिति नहीं है। टारगेट का पीछा करने में मैं दवाब महसूस नहीं करता। मैं इसे एक मौके की तरह लेता हूं। मैं कोशिश करता हूं कि आउट ना होऊं और टीम को जीतते हुए देखूं।''

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Wicket keepers like Mushfiqur Rahim sledging from behind the stumps keep me motivated says Virat Kohli