फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटपाकिस्तान की टी20 वर्ल्ड कप 2024 में मिट्टी पलीद होने का खुला राज, बाबर-शाहीन के अलावा इस खिलाड़ी का भी गुट

पाकिस्तान की टी20 वर्ल्ड कप 2024 में मिट्टी पलीद होने का खुला राज, बाबर-शाहीन के अलावा इस खिलाड़ी का भी गुट

बाबर आजम की कप्तानी वाली पाकिस्तान टीम की टी20 वर्ल्ड कप 2024 में मिट्टी पलीद हो गई। पाकिस्तान ग्रुप चरण से ही बाहर हो गया। बताया जा रहा है कि गुटबाजी ने टी20 वर्ल्ड कप पाकिस्तान का बेड़ा गर्क किया।

पाकिस्तान की टी20 वर्ल्ड कप 2024 में मिट्टी पलीद होने का खुला राज, बाबर-शाहीन के अलावा इस खिलाड़ी का भी गुट
Md.akram भाषा,कराचीSat, 15 Jun 2024 04:05 PM
ऐप पर पढ़ें

पाकिस्तान के टी20 वर्ल्ड कप 2024 से जल्दी बाहर होने के लिए टीम के भीतर गुटबाजी और महत्वपूर्ण क्षणों में वरिष्ठ खिलाड़ियों के खराब प्रदर्शन को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। इस लचर प्रदर्शन के बाद टीम के साथ ही पीसीबी में भी 'बड़े बदलाव' हो सकते हैं। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के सूत्रों के मुताबिक, कप्तान के रूप में वापसी पर बाबर आजम के सामने सबसे बड़ी चुनौती टीम को एकजुट करने की थी लेकिन गुटबाजी के कारण वह ऐसा नहीं कर सके।

शाहीन शाह अफरीदी कप्तानी गंवाने और बाबर द्वारा जरूरत पड़ने पर उनका समर्थन नहीं करने से नाराज हैं जबकि मोहम्मद रिजवान कप्तानी के लिए विचार नहीं किए जाने से नाखुश हैं। टीम के सूत्र ने 'पीटीआई-भाषा' से कहा, ''टीम में तीन गुट हैं, एक का नेतृत्व बाबर आजम कर रहे है तो वहीं दूसरे खेमे की अगुवाई अफरीदी और तीसरे की रिजवान कर रहे हैं। इस सब के बीच मोहम्मद आमिर और इमाद वसीम जैसे वरिष्ठ खिलाड़ियों की वापसी से टीम की स्थिति और खराब हो गयी।''

उन्होंने कहा, ''इमाद और आमिर की वापसी ने भ्रम बढ़ा दिया क्योंकि बाबर के लिए इन दोनों से कोई सार्थक प्रदर्शन प्राप्त करना मुश्किल था। इन दोनों ने फ्रेंचाइजी आधारित लीगों को छोड़कर लंबे समय से शीर्ष स्तर की घरेलू या अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेला था।'' सूत्र ने कहा, ''ऐसे भी उदाहरण थे जहां कुछ खिलाड़ी एक-दूसरे से बात नहीं कर रहे थे और उनमें से कुछ ने टीम के तीनों खेमों की अगुवाई कर रहे खिलाड़ियों को खुश करने की भी कोशिश की।''

पीसीबी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अध्यक्ष मोहसिन नकवी को वर्ल्ड कप से पहले ही टीम की समस्याओं के बारे में अच्छी तरह से पता था। उनके करीबी और राष्ट्रीय चयनकर्ता वहाब रियाज ने उन्हें इसकी जानकारी दी थी। उन्होंने कहा, ''नकवी ने सभी खिलाड़ियों के साथ अकेले में दो बैठकें की और निजी हितों की जगह वर्ल्ड कप जीतने पर ध्यान केंद्रित करने को कहा था। उन्होंने उन्हें वर्ल्ड कप के बाद टीम में सभी गलतफहमियों को दूर करने का वादा भी किया था लेकिन बात नहीं बनी।''

सूत्र ने कहा, ''मैं बाबर का बचाव नहीं कर रहा हूं, लेकिन एक कप्तान को क्या करना चाहिए जब आपका प्रमुख गेंदबाज कमजोर अमेरिका टीम के खिलाफ अंतिम ओवर में 15 रनों का भी बचाव नहीं कर सकता और फुल टॉस पर एक चौका और छह रन दे देता है।'' उन्होंने कहा, ''संन्यास से वापसी करने वाले एक हरफनमौला को फिटनेस संबंधी समस्या के कारण टीम से बाहर बैठना पड़ता है।'' उन्होंने कहा कि इन सब चीजों के बीच खिलाड़ियों के एजेंटों और सोशल मीडिया अभियान चलाने वाले कुछ पूर्व खिलाड़ियों सहित बाहरी तत्वों की भूमिका ने भी टीम में तनाव को और बढ़ाने का काम किया।

Advertisement