फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटAUS vs AFG: दर्द से तड़पते ग्लेन मैक्सवेल को आखिर 'रनर' क्यों नहीं दिया गया? जानिए अहम वजह

AUS vs AFG: दर्द से तड़पते ग्लेन मैक्सवेल को आखिर 'रनर' क्यों नहीं दिया गया? जानिए अहम वजह

Why was Glenn Maxwell not allowed a Runner? ग्लेन मैक्सवेल ने वर्ल्ड कप में अफगानिस्तान के खिलाफ ऐतिहासिक डबल सेंजुरी जड़ी। मैक्सवेल पारी के दौरान दर्द से तड़पते नजर आए लेकिन उन्हें 'रनर' नहीं मिला।

AUS vs AFG: दर्द से तड़पते ग्लेन मैक्सवेल को आखिर 'रनर' क्यों नहीं दिया गया? जानिए अहम वजह
Md.akram लाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीWed, 08 Nov 2023 03:23 PM
ऐप पर पढ़ें

ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर ग्लेन मैक्सवेल ने वर्ल्ड कप 2023 में अफगानिस्तान के खिलाफ चमत्कारिक पारी खेली। उन्होंने 128 गेंदों में 21 चौकों और 10 छक्कों की मदद से नाबाद 201 रन बनाए और अफगानिस्तान के जबड़े से जीत छीन ली। मैक्सवेल ने उस वक्त अकेले दम पर ऑस्ट्रेलिया को जीत दिलाने का माद्दा दिखाया, जब 91 रन पर 7 विकेट गिर गए थे। ऑस्ट्र्रेलिया को 292 रन का टारेगट मिला था, जिसे चेज कर उसने सेमीफाइनल में एंट्री कर ली। मैक्सवेल अपनी पारी के दौरान पैर में क्रैम्प से जूझे। वह दर्द से तड़पते नजर आए और यहां तक कि मैदान पर भी लेट गए।

एक समय तो लगा कि मैक्सवेल तकलीफ की वजह से रिटायर हर्ट हो जाएंगे। हालांकि, उन्होंने अपना हौसला टूटने नहीं दिया और टीम के लिए अविश्वसनीय कारनामा अंजाम दिया। जब मैक्सवेल पैर की नसों में ऐंठन से परेशान थे तो उनके लिए विकेटों के बीच दौड़ना हर ओवर के साथ चुनौतीपूर्ण होता जा रहा था। उन्होंने लंगड़ाते हुए बैटिंग की और ज्यादातर बाउंड्री में डील करने की कोशिश की। क्रिकेट फैंस को आश्चर्य हो रहा कि मैक्सवेल को 'रनर' क्यों नहीं दिया गया जबकि पहले कई अन्य बल्लेबाजों को इसकी अनुमति मिली थी।

यह भी पढ़ें- ग्लेन मैक्सवेल ने डबल सेंचुरी ठोककर बनाए 6 धांसू रिकॉर्ड, वनडे इतिहास में ये कमाल करने वाले इकलौते क्रिकेटर

वीरेंद्र सहवाग वर्ल्ड कप 2003 में पाकिस्तान के खिलाफ मैच के दौरान सचिन तेंदुलकर के लिए 'रनर' थे। सचिन ने तब 98 रन की पारी खेली। सुरेश रैना 2009 में मोहाली टेस्ट में वीवीएस लक्ष्मण के लिए दौड़े। गौतम गंभीर विश्व कप 2011 में बांग्लादेश के विरुद्ध मैच में सहवाग के लिए दौड़े। सहवाग ने उस मुकाबले में 175 रन बनाए। ऐसे में लोगों के मन में सवाल है कि मैक्सवेल ने अफगानिस्तान के सामने 'रनर' क्यों नहीं लिया? दरअसल, इसकी वजह है कि अब इंटरनेशनल क्रिकेट में 'रनर' का नियम मौजूद नहीं है।

बता दें कि आईसीसी की कार्यकारी समिति ने 2011 में चोटिल बल्लेबाजों के लिए 'रनर' को खत्म करने का फैसला किया। यह निर्णय खेल के समय होने वाली रुकावट के चलते लिया गया। 'रनर' का इस्तेमाल उस वक्त होता था जब खिलाड़ी को चोट लगने के बाद रन दौड़ने में दिक्कत होती थी। 'रनर' बैटिंग कर रहे खिलाड़ी से काफी दूर खड़ा होता था और उसे नॉन-स्ट्राइकर छोर के प्लेयर के साथ दौड़ना पड़ता था, जो कई बार बाधा बनता। वहीं, अब खिलाड़ी को चोटिल होने पर या तो परेशानी में बल्लेबाजी करनी पड़ती है या फिर उसे रिटायर हर्ट का ऑप्शन मिलता है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें