DA Image
31 मई, 2020|6:45|IST

अगली स्टोरी

जब श्रेयस अय्यर के पिता को लगा था बेटा गलत संगत या प्यार में पड़ गया

अय्यर जब 16 साल के थे और अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रहे थे तो उनके पिता उन्हें मनोचिकित्सक के पास ले गए थे। अय्यर के पिता को तब लगा था कि उनका बेटा या तो गलत संगत में पड़ गया है या प्यार में पड़ गया है

shreyas iyer

टीम इंडिया के मिडिल-ऑर्डर के बल्लेबाज श्रेयस अय्यर के पिता संतोष अय्यर ने कहा कि जब उनके बेटे के प्रदर्शन में गिरावट आई तो उन्होंने मनोचिकित्सक से मदद ली, जिससे इस क्रिकेटर को खेल में सुधार करने में मदद मिली। अय्यर जब 16 साल के थे और अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रहे थे तो उनके पिता उन्हें मनोचिकित्सक के पास ले गए थे। अय्यर के पिता को तब लगा था कि उनका बेटा या तो गलत संगत में पड़ गया है या प्यार में पड़ गया है।

भारत के ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने पर वकार ने कहा कुछ ऐसा

संतोष ने 'क्रिकबज' के शो 'स्पाइसी पिच' में बताया कि अय्यर जब 16 साल के थे और उनके खेल में गिरावट आई थी तब उन्हें डांट से ज्यादा मनोचिकित्सक की सलाह की जरूरत महसूस हुई। आमतौर पर भारतीय परिवेश में जिन अभिभावकों को अपने बच्चों से ज्यादा उम्मीदें होती है, वो उनके लिए अच्छा करने की चाहत में नुकसान कर बैठते हैं। सीमित ओवरों की भारतीय टीम में जगह पक्की कर चुके अय्यर के पिता ने कहा, 'जब वो चार साल का था तब वह घर में प्लास्टिक की गेंद से खेलता था। उस समय भी वो गेंद को बल्ले के बीचों बीच से मारता था। इससे हमें उसकी प्रतिभा के बारे में पता चला। हम उसकी उस प्रतिभा को निखारने के लिए जो भी संभव था, वो करने की कोशिश कर रहे थे।'

एक बच्चे ने बताया कैसे बचें कोविड-19 से, वीरू ने शेयर किया वीडियो

'मुझे लगा प्यार या गलत संगत में पड़ गया बेटा'

मुंबई अंडर-16 के लिए खेलते समय अय्यर के प्रदर्शन में गिरावट आई तो कोच ने कहा कि उसका ध्यान भटक रहा है। संतोष अय्यर ने कहा, 'जब एक कोच ने कहा कि आपके बेटे के पास प्रतिभा की कोई कमी नहीं है, लेकिन उसका ध्यान भटक रहा है। मैं थोड़ा चिंतित हो गया था। मुझे लगा कि वो किसी के प्यार में पड़ गया है या गलत संगत में आ गया है।' उन्होंन बताया कि यह नौ साल पहले की बात है और उस समय मनोचिकित्सा को ज्यादा महत्व नहीं दिया जाता था। आमतौर पर ऐसे समय में अभिभावक बच्चों को डांटते थे, लेकिन मैंने उसे मनोचिकित्सक के पास ले जाने का फैसला किया।

श्रेयस के पिता ने कहा, 'आखिरकार, मुझे बताया गया कि चिंता की कोई बात नहीं है। ज्यादातर क्रिकेटरों की तरह श्रेयस भी खराब दौर से गुजर रहा है। फिर उसने जल्द ही लय हासिल कर ली और फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा।' अय्यर ने 18 वनडे इंटरनेशनल मैचों में 748 रन बनाए हैं, जहां उनका औसत लगभग 50 का है। उन्होंने 22 टी20 इंटरनेशनल मैचों में 27 से अधिक के औसत से 417 रन बनाए हैं।

(एजेंसी इनपुट के साथ)

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:When Father Took 16-Year-Old Shreyas Iyer To Sports Psychologist