DA Image
हिंदी न्यूज़ › क्रिकेट › WTC Final 2021: रोहित शर्मा की काबिलियत पर है वीरेंद्र सहवाग को पूरा भरोसा, कहा- ट्रेंट बोल्ट के साथ मुकाबला होगा दिलचस्प
क्रिकेट

WTC Final 2021: रोहित शर्मा की काबिलियत पर है वीरेंद्र सहवाग को पूरा भरोसा, कहा- ट्रेंट बोल्ट के साथ मुकाबला होगा दिलचस्प

एजेंसी,नई दिल्लीPublished By: Shubham Mishra
Sat, 12 Jun 2021 03:45 PM
WTC Final 2021: रोहित शर्मा की काबिलियत पर है वीरेंद्र सहवाग को पूरा भरोसा, कहा- ट्रेंट बोल्ट के साथ मुकाबला होगा दिलचस्प

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में अब महज कुछ दिन का समय शेष है। भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेले जाने वाले फाइनल मुकाबले का तमाम क्रिकेट फैन्स को बेसब्री से इतंजार है। दोनों ही टीमों के पास दमदार बैटिंग और बॉलिंग अटैक मौजूद है, ऐसे में हर किसी को यह उम्मीद है कि डब्ल्यूटीसी का फाइनल मैच काफी रोमांचक होने वाला है। इसी बीच, भारत के पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग का मानना है कि रोहित के बल्ले से फाइनल में रन निकलेंगे और उनके और ट्रेंट बोल्ट के बीच दिलचस्प मुकाबला देखने को मिल सकता है। 

विराट नहीं इस भारतीय बल्लेबाज की बड़ी फैन हैं भारतीय कप्तान की बहन भावना कोहली

सहवाग ने पीटीआई से कहा, ''इसमें कोई शक नहीं कि ट्रेंट बोल्ट और टिम साउदी की जोड़ी भारतीयों के लिए काफी चुनौतियां पेश करेगी। वे दोनों तरीकों से गेंद को मूव कर सकते हैं और साझेदारी में गेंदबाजी करते हुए भी काफी शानदार हैं। मैं बोल्ट बनाम रोहित शर्मा के बीच मुकाबला देखना चाहूंगा। अगर रोहित क्रीज पर जम जाते हैं और बोल्ट के शुरूआती स्पैल को खेलते हैं तो इसे देखना अद्भुत होगा।' रोहित के लिए इंग्लैंड के परिस्थितियों में पारी आगाज करने का पहला मौका होगा, हालांकि उन्हें 2014 में टेस्ट खेलने के अनुभव से निश्चित रूप से मदद मिलेगी।

वेस्टइंडीज के ऑलराउंडर आंद्रे रसेल के सिर पर लगी चोट, स्ट्रेचर पर ले जाना पड़ा अस्पताल-VIDEO

लंबे फॉर्मेट में भारत के शानदार मैच विजेताओं में से एक रहे सहवाग ने कहा, 'रोहित शानदार बल्लेबाज हैं और वह पहले भी (2014) में इंग्लैंड में टेस्ट क्रिकेट खेल चुके हैं इसलिए मुझे लगता है कि वह काफी अच्छी तरह से गेंदबाजों का सामना करेंगे जैसा कि हमने हाल में देखा जब उन्होंने बल्लेबाजी का आगाज किया था। इसमें कोई शक नहीं कि वह इस बार इंग्लैंड में रन बनाएंगे। निश्चित रूप से किसी भी सलामी बल्लेबाज की तरह उन्हें पहले 10 ओवरों में काफी सतर्क रहना होगा और परिस्थितियों को समझने के लिए नई गेंद को खेलना होगा। मुझे पूरा भरोसा है कि उन्हें अपने स्ट्रोक्स खेलने का मौका मिलेगा।'
 

संबंधित खबरें