फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटवीरेंद्र सहवाग ने की यशस्वी जायसवाल की तारीफ, बोले- स्पिनरों को वैसे ही ट्रीट किया जैसे...

वीरेंद्र सहवाग ने की यशस्वी जायसवाल की तारीफ, बोले- स्पिनरों को वैसे ही ट्रीट किया जैसे...

वीरेंद्र सहवाग ने की राजकोट में सेंचुरी जड़ने वाले यशस्वी जायसवाल की तारीफ की और कहा कि स्पिनरों को वैसे ही ट्रीट किया जैसे उनको किया जाता है। जायसवाल ने अपनी इस पारी में पांच छक्के जड़े। 

वीरेंद्र सहवाग ने की यशस्वी जायसवाल की तारीफ, बोले- स्पिनरों को वैसे ही ट्रीट किया जैसे...
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 17 Feb 2024 05:11 PM
ऐप पर पढ़ें

भारत की टेस्ट टीम के खतरनाक ओपनर रहे वीरेंद्र सहवाग ने टीम के मौजूदा युवा विस्फोटक ओपनर यशस्वी जायसवाल की तारीफ की। यशस्वी जायसवाल ने राजकोट में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच में तूफानी शतक जड़ा। उन्होंने इंग्लैंड के स्पिनरों की जमकर क्लास लगाई। हालांकि, शतक के कुछ ही देर बाद वे रिटायर्ड हर्ट होकर पवेलियन लौट गए, क्योंकि उनकी कमर में कुछ परेशानी आ गई थी। 

यशस्वी जायसवाल ने महज 122 गेंदों में 9 चौके और 5 छक्कों की मदद से शतक जड़ा, जिसकी तारीफ में वीरेंद्र सहवाग ने कहा है कि उन्होंने स्पिनरों को वैसे ही ट्रीट किया, जैसे किया जाना चाहिए। उन्होंने एक्स पोस्ट में यशस्वी जायसवाल की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा, "यशस्वी जायसवाल का बैक टू बैक शतक। स्पिनरों के साथ वैसा ही व्यवहार किया, जैसा उनके साथ किया जाना चाहिए। दे दना दन"

यशस्वी जायसवाल ने इस पारी में तेजी से अपने गियर बदले। उन्होंने पारी की पहली 73 गेंदों में सिर्फ 35 रन बनाए थे। इसके बाद उन्होंने तेजतर्रार बल्लेबाजी दिखाई और 49 गेंदों में 75 रन बना दिए। इस तरह उन्होंने इंग्लैंड को वही कड़ी दवा पिलाई, जो इंग्लिश टीम काफी समय से अन्य टीमों को पिलाती आ रही है। इंग्लैंड के बल्लेबाज तेज गति से बल्लेबाजी करते हैं और अब यशस्वी ने भी ऐसा ही कर दिखाया।

यशस्वी जायसवाल ने बजा दिया बैजबॉल की बॉलिंग का बैंड, तीसरे टेस्ट मैच में ठोका तूफानी शतक

यशस्वी जायसवाल ने इस सीरीज में ये दूसरा शतक ठोका है। उन्होंने वाइजैग में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में दोहरा शतक जड़ा था। वहीं, इस मैच में उन्होंने 105 रनों की पारी खेली और वे रिटायर्ड हर्ट होकर वापस पवेलियन लौट गए। हालांकि, बाद में वे बल्लेबाजी के लिए आ सकते हैं, क्योंकि भारतीय टीम वैसे ही एक कम बल्लेबाज के साथ खेल रही है। इसके पीछे का कारण ये है कि दो दिन के खेल के बाद आर अश्विन ने भारतीय टीम का साथ छोड़ दिया था, क्योंकि उनको किसी फैमिली इमरजेंसी की वजह से चेन्नई लौटना पड़ा था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें