फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ क्रिकेटविराट कोहली नहीं तोड़ पाएंगे रिकी पोंटिंग का यह वर्ल्ड रिकॉर्ड, कप्तानी छोड़ते ही उम्मीद खत्म

विराट कोहली नहीं तोड़ पाएंगे रिकी पोंटिंग का यह वर्ल्ड रिकॉर्ड, कप्तानी छोड़ते ही उम्मीद खत्म

विराट कोहली ने सितंबर 2021 में टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट की कप्तानी छोड़ने का ऐलान किया था। दिसंबर 2021 में उनसे वनडे इंटरनेशनल टीम की कप्तानी छीन ली गई और जनवरी 2022 में उन्होंने टेस्ट क्रिकेट की...

विराट कोहली नहीं तोड़ पाएंगे रिकी पोंटिंग का यह वर्ल्ड रिकॉर्ड, कप्तानी छोड़ते ही उम्मीद खत्म
Vikash Gaurलाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीMon, 17 Jan 2022 11:41 AM

इस खबर को सुनें

विराट कोहली ने सितंबर 2021 में टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट की कप्तानी छोड़ने का ऐलान किया था। दिसंबर 2021 में उनसे वनडे इंटरनेशनल टीम की कप्तानी छीन ली गई और जनवरी 2022 में उन्होंने टेस्ट क्रिकेट की कप्तानी को भी अलविदा कह दिया। ऐसे में उनके पास एक वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने का मौका था, जिसे अब वे हासिल नहीं कर पाएंगे। हालांकि, अभी भी वे उस वर्ल्ड रिकॉर्ड पर संयुक्त रूप से कब्जा जमाए हुए हैं। 

दरअसल, एक कप्तान के तौर पर इंटरनेशनल क्रिकेट में सबसे ज्यादा शतक लगाने का कमाल ऑस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने किया था। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कुल 41 शतक कप्तानी करते हुए जड़े थे। वहीं, विराट कोहली ने भी इतने ही शतक इंटरनेशनल क्रिकेट में एक कप्तान के रूप में जड़े हैं। ऐसे में विराट कोहली इस विश्व रिकॉर्ड के संयुक्त विजेता हैं, लेकिन वे अब इससे आगे नहीं निकल पाएंगे। 

विराट कोहली के पास इस विश्व रिकॉर्ड को हासिल करने का लंबा मौका था, लेकिन वे अपने शतकों की संख्या को एक कप्तान के तौर पर 41 से 42 नहीं कर पाए। यहां तक कि अब इस बात भी भरोसा नहीं है कि वे कभी कप्तानी करते नजर आएंगे। अगर सबकुछ ठीक रहता है तो फिर शायद कप्तान के तौर पर कभी विराट कोहली को इंटरनेशनल क्रिकेट खेलने को ही न मिले, क्योंकि अब कप्तान पद के लिए कई दावेदार हैं। 

दाएं हाथ के बल्लेबाज विराट कोहली के बल्ले से आखिरी बार शतक 23 नवंबर 2019 को निकला था। इसके बाद से वे एक भी बार शतक नहीं जड़ सके हैं। अगर वे आगे शतक बना देते हैं तो वे रिकी पोंटिंग के सबसे ज्यादा शतकों की बराबरी कर सकते हैं, लेकिन कप्तान के तौर पर बनाए गए उनके शतकों की संख्या से आगे नहीं निकल पाएंगे। ऐसे में दो महान कप्तान एक वर्ल्ड रिकॉर्ड के संयुक्त हकदार हैं।

epaper