फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटगाबा के उस ऐतिहासिक स्टेडियम को तोड़ा जाएगा, जहां टूटा था ऑस्ट्रेलिया का घमंड

गाबा के उस ऐतिहासिक स्टेडियम को तोड़ा जाएगा, जहां टूटा था ऑस्ट्रेलिया का घमंड

गाबा के उस ऐतिहासिक स्टेडियम को पूरी तरह से तोड़ने की बात कही जा रही है, जहां ऑस्ट्रेलिया का घमंड टूटा था। भारत ने लगातार दूसरी बार ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर पर टेस्ट सीरीज हराई थी। 

गाबा के उस ऐतिहासिक स्टेडियम को तोड़ा जाएगा, जहां टूटा था ऑस्ट्रेलिया का घमंड
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 25 Nov 2023 07:07 AM
ऐप पर पढ़ें

ऑस्ट्रेलिया में कई स्टेडियम हैं, जो कई दशक पुराने में हैं। इनमें ब्रिसबेन का गाबा स्टेडियम भी शामिल है, जो 130 साल से भी ज्यादा पुराना है। अब इस ऐतिहासिक स्टेडियम को तोड़ने की बात कही जा रही है। इसी स्टेडियम में भारतीय टीम ने 2021 में ऑस्ट्रेलिया का घमंड तोड़ा था। ऑस्ट्रेलिया की टीम को यहां हार नहीं मिली थी, लेकिन भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को हराकर लगातार दूसरी बार उन्हीं की सरजमीं पर टेस्ट सीरीज जीती थी। 

रिपोर्ट्स की मानें तो अगले 2025 में इस स्टेडियम को तोड़ा जाएगा, लेकिन अच्छी बात ये है कि इसी जगह नया स्टेडियम तैयार किया जाएगा और उसी दर्शक क्षमता मौजूदा स्टेडियम के मुकाबले ज्यादा होगी। ऐसा इसलिए किया जा रहा है, क्योंकि 2032 में ऑस्ट्रेलिया के इसी शहर में ओलंपिक खेलों का आयोजन होना है। इसी मेगा इवेंट को ध्यान में रखते हुए इस स्टेडियम को बड़े स्तर पर फिर से नए सिरे से बनाया जाएगा। 

2021 में ब्रिसबेन को ओलंपिक खेलों की मेजबानी मिली थी। ब्रिसबेन ऑस्ट्रेलिया का तीसरा शहर होगा, जहां ओलंपिक खेलों का आयोजन होगा। इससे पहले साल 1956 में मेलबर्न और साल 2000 में सिडनी में ओलंपिक खेलों का आयोजन हो चुका है। गाबा स्टेडियम को फिर से बनाने के लिए कई बड़े फैसले लिए जाएंगे। स्टेडियम के पास एक स्कूल है, उसे रीलोकेट किया जाएगा, जबकि अंडर ग्राउंड ट्रेन की सुविधा भी यहां मिलेगी। 

हार्दिक पांड्या के बदले गुजरात टाइटन्स को इतने करोड़ रुपये देगी मुंबई इंडियंस, सामने आई रिपोर्ट

ओलंपिक खेलों की तैयारी के लिए क्वींसलैंड में सरकार 1.8 बिलियन डॉलर यानी करीब 15 हजार करोड़ रुपए निवेश करेगी। मौजूदा समय में इस स्टेडियम की दर्शक क्षमता 42 हजार है, लेकिन नए सिरे से इसे करीब 50 हजार दर्शक क्षमता वाला बनाया जाएगा। इस स्टेडियम का निर्माण 1895 में किया गया था और यह दुनिया के सबसे पुराने कुछ चुनिंदा स्टेडियमों में से एक है। 2025 में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच यहां टेस्ट मैच खेला जाएगा। इसके बाद इसे तोड़ा जाएगा। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें