DA Image
हिंदी न्यूज़ › क्रिकेट › आर अश्विन के लिए आसान नहीं था कीवी टीम को WTC खिताब जीतते देखना, साझा किया अपना दर्द
क्रिकेट

आर अश्विन के लिए आसान नहीं था कीवी टीम को WTC खिताब जीतते देखना, साझा किया अपना दर्द

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Shubham Mishra
Fri, 02 Jul 2021 10:46 AM
आर अश्विन के लिए आसान नहीं था कीवी टीम को WTC खिताब जीतते देखना, साझा किया अपना दर्द

मोहम्मद शमी की गेंद पर रॉस टेलर के बल्ले से निकले चौके ने करोड़ों भारतीय फैन्स का दिल तोड़ दिया था। इस चौके के साथ ही न्यूजीलैंड ने भारत को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में हराकर पहले खिताब पर कब्जा जमा लिया था। एक तरफ जहां न्यूजीलैंड खेमे में इस जीत का जश्व रात भी मना तो वहीं दूसरी तरफ भारतीय टीम अपने टूटे सपने के दर्द से उभरने की कोशिश कर रही थी। भारत के स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन ने बताया है कि न्यूजीलैंड को चैंपियन बनते देखना और जीत का जश्न मनाते देखना काफी मुश्किल था। 

पहली ही गेंद पर विकेट चटकाने के बाद क्रिस गेल का अनोखा सेलिब्रेशन हुआ वायरल, डेल स्टेन भी हुए फैन- देखें VIDEO

यूट्यूब चैनल पर बात करते हुए अश्विन ने बताया, 'मैच के बाद, न्यूजीलैंड के यहां ट्रॉफी और कुछ ड्रिंक्स के साथ ड्रेसिंग रूम में सेलिब्रेशन करने का रिवाज है। यह देखना काफी मुश्किल था। मुझे लगता है कि यह ग्राउंड के ऊपर रूम होना फ्लिप साइड है। उन्होंने 12 बजे तक सेलिब्रेट किया। यहां तक वह पिच पर भी आए और वह जिस तरह से अपनी खुशी जाहिर कर रहे थे वो किसी वॉर क्राई की तरह सुनाई दे रहा था। वह काफी परेशान करने वाला था क्योंकि हम ऐसा करने में सफल नहीं रहे थे।'

श्रीलंका क्रिकेट में जारी है बवाल, भारत के खिलाफ होने वाली सीरीज के कॉन्ट्रैक्ट पर पांच खिलाड़ियों ने किया साइन करने से इनकार

इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले मिले ब्रेक पर बात करते हुए अश्विन ने कहा, 'हम पूरे समय बबल में थे। तो काफी समय बाद हमको खुली हवा और बाहर निकलने का मौका मिला। मैंने एक कार किराए पर ली है और मैं उसको लेकर पूरे देश में घूम रहा हूं। पहले हम डेवोन गए। वह काफी सुंदर जगह है। हम एक ऊंचाई पर गए जो कि सागर और पहाड़ को जोड़ती है। यह ब्रेक हमारे लिए काफी जरूरी था। हमारे पास डब्ल्यूटीसी फाइनल और इंग्लैंड सीरीज के बीच काफी वक्त था। जाहिर तौर पर हम प्रैक्टिस करेंगे, लेकिन यह ब्रेक काफी अच्छा है। बबल में रहना काफी मुश्किल होता है। हम पिछले डेढ़ साल से बबल में हैं।'

संबंधित खबरें