फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटIND vs SA : दो दिन के अंदर ही भारत ने साउथ अफ्रीका को हराकर केपटाउन का किला भेदा, ये हैं जीत के पांच हीरो

IND vs SA : दो दिन के अंदर ही भारत ने साउथ अफ्रीका को हराकर केपटाउन का किला भेदा, ये हैं जीत के पांच हीरो

भारत ने दक्षिण अफ्रीका को दूसरे टेस्ट मैच में 7 विकेट से हराया। केपटाउन में खेले गए मैच में भारत को जीत दिलाने में रोहित शर्मा, जसप्रीत बुमराह, विराट कोहली समेत इन 5 खिलाड़ियों ने अहम भूमिका निभाई है।

IND vs SA : दो दिन के अंदर ही भारत ने साउथ अफ्रीका को हराकर केपटाउन का किला भेदा, ये हैं जीत के पांच हीरो
Himanshu Singhलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीThu, 04 Jan 2024 06:02 PM
ऐप पर पढ़ें

भारत ने केपटाउन में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका को 7 विकेट से हरा दिया है। दूसरा टेस्ट मैच दो दिन के अंदर ही खत्म हो गया, जोकि टेस्ट क्रिकेट में बहुत ही कम देखने को मिलता है। भारतीय टीम ने दूसरे टेस्ट मैच की शुरुआत दमदार अंदाज में की थी। मोहम्मद सिराज की अगुवाई में तेज गेंदबाजों ने अफ्रीका को पहली पारी में सिर्फ 55 रन पर ढेर कर दिया था लेकिन भारतीय टीम इसका ज्यादा फायदा नहीं उठा सकी और अपनी पहली पारी में 11 गेंद के अंदर 6 विकेट गंवाकर अफ्रीका को वापसी का मौका दे दिया था। इस मैच के दौरान भारत के प्रदर्शन और किन खिलाड़ियों ने भारत को ऐतिहासिक जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई, उनके बारे में यहां हम आपको बताने जा रहे हैं।  

साउथ अफ्रीका के पहली पारी में 55 रनों के जवाब में भारत ने पहली पारी में 153 रन बनाए थे और 98 रन की बढ़त हासिल की थी। दूसरी पारी में दक्षिण अफ्रीका की टीम ने एडन मार्करम के शतक की बदौलत 176 रन बनाए और भारत को जीत के लिए 79 रनों का लक्ष्य दिया। भारत ने शुरुआती अच्छी की थी लेकिन अफ्रीका ने तीन विकेट लेकर दबाव बनाने की कोशिश की। हालांकि रोहित शर्मा ने श्रेयस अय्यर के साथ मिलकर 12वें ओवर में भारत को 7 विकेट से जीत दिलाई। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले गए मैच का रिजल्ट सिर्फ 642 गेंद के अंदर आया है, जिससे ये सबसे कम गेंद में खत्म होने वाला टेस्ट मैच भी बन गया है। 

केपटाउन टेस्ट मैच में जीत के पांच हीरो

मोहम्मद सिराज
भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने पहली पारी में दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाजी क्रम को धराशायी करने में अहम भूमिका निभाई। सिराज ने लगातार बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए अफ्रीका के बल्लेबाजों को संभलने तक का मौका नहीं दिया। पिछले मैच में शतकीय पारी खेलने वाले डीन एल्गर के खिलाफ एक खास रणनीति के साथ गेंदबाजी की और उनको पारी की शुरुआती में पवेलियन का रास्ता दिखाया। इसके बाद भारत ने अफ्रीकी बल्लेबाजों को क्रीज पर टिकने तक का मौका नहीं दिया और लगातार अंतराल पर विकेट चटकाते रहे। मोहम्मद सिराज ने पहले दिन लगातार नौ ओवर के अपने पहले स्पैल में 15 रन देकर छह विकेट झटककर अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। 

जसप्रीत बुमराह
पहली पारी में दो विकेट चटकाने वाले जसप्रीत बुमराह ने दूसरी पारी में कहर बरपाया। दूसरे दिन के खेल की शुरुआत में ही बुमराह ने काफी आक्रमक गेंदबाजी की, जिसके कारण अफ्रीका के बल्लेबाज बड़ी साझेदारी निभाने में नाकामयाब रहे। एडन मार्करम एक छोर से धुआंधार बल्लेबाजी कर रहे थे लेकिन बुमराह दूसरी छोर से लगातार विकेट चटका रहे थे जिससे दोनों छोर से रन नहीं बन पा रहे थे। बुमराह ने दूसरी पारी में 13.5 ओवर में 6 विकेट लेकर 61 रन दिए। 

विराट कोहली
पहले मैच में भारत के पूर्व कप्तान विराट कोहली एकमात्र ऐसे बल्लेबाज रहे थे, जिन्होंने अफ्रीका के गेंदबाजों का डटकर सामना किया था और इस मैच की पहली पारी में भी विराट एक छोर पर डटे हुए थे। उन्होंने शुभमन गिल और फिर केएल राहुल के साथ मिलकर साझेदारी की और टीम को एक सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई। साउथ अफ्रीका की पारी के दौरान विराट कोहली गेंदबाजों से भी बातचीत करके प्लानिंग करते हुए सफलता दिलाने में भूमिका निभा रहे थे। विराट कोहली ने दूसरे टेस्ट मैच की पहली पारी में 59 गेंद में 46 रन और दूसरी पारी में 12 रन का योगदान दिया। 

रोहित शर्मा
भारतीय टीम के कप्तान रोहित शर्मा का साउथ अफ्रीका में टेस्ट सीरीज जीतने का सपना अधूरा रह गया लेकिन वह सीरीज ड्रॉ करवाने में कामयाब रहे। रोहित शर्मा ने बल्ले के साथ-साथ कैप्टेंसी में भी काफी समझादारी दिखाई। पहली पारी में सिराज को लगातार नौ ओवर का स्पैल करवाना हो या पहला विकेट जल्दी गिरने के बाद नए बल्लेबाज के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाना हो, रोहित ने अपने रोल बखूबी निभाया है। रोहित ने पहली पारी में 50 गेंद में 39 रन की पारी खेली, जबकि दूसरी पारी में वह अंत तक डटे रहे और नाबाद 17 रन बनाए।

मुकेश कुमार
टेस्ट फॉर्मेट में अपना दूसरा मैच खेलने वाले मुकेश कुमार ने दोनों पारियों में गेंद से अन्य गेंदबाजों का अच्छा साथ दिया। इस मैच में उन्होंने कुल 4 विकेट चटकाए। पहली पारी में उन्होंने निचले क्रम के बल्लेबाजों को पवेलियन का रास्ता दिखाया, जबकि दूसरी पारी में उन्होंने डीन एल्गर और टोनी जॉर्जी जैसे बड़े बल्लेबाजों का विकेट चटकाकर भारत को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया था। दूसरे मैच में शार्दुल ठाकुर की जगह मुकेश कुमार को खेलने का मौका मिला था। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें