फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेट150 साल के इतिहास में...SA vs BAN मैच में अंपायर के फैसले पर क्या बोले अंबाती रायुडू

150 साल के इतिहास में...SA vs BAN मैच में अंपायर के फैसले पर क्या बोले अंबाती रायुडू

T20 WC 2024: टी20 वर्ल्ड कप में बांग्लादेश और दक्षिण अफ्रीका मैच में अंपायर के फैसले पर बहस जारी है। इस बीच पूर्व भारतीय क्रिकेटर अंबाती रायुडू ने भी इस फैसले को लेकर सवाल उठा दिए हैं।

150 साल के इतिहास में...SA vs BAN मैच में अंपायर के फैसले पर क्या बोले अंबाती रायुडू
Deepakलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 11 Jun 2024 05:09 PM
ऐप पर पढ़ें

T20 WC 2024: टी20 वर्ल्ड कप में बांग्लादेश और दक्षिण अफ्रीका मैच में अंपायर के फैसले पर बहस जारी है। इस बीच पूर्व भारतीय क्रिकेटर अंबाती रायुडू ने भी इस फैसले पर सवाल खड़ा किया है। रायुडू ने इस फैसले को बेहद खराब बताया है। उन्होंने कहा कि 150 साल के इतिहास में क्या आपने किसी अंपायर को ऐसा फैसला लेते हुए देखा है? अंबाती रायुड ने कहा कि केवल इसलिए कि लेग स्टंप का एक हिस्सा दिखाई दे रहा था, आप बल्लेबाज को आउट देंगे? रायुडू ने कहा कि आपको बतौर अंपायर यह भी देखना होता है कि गेंद का एंगल किस तरफ है। इसे डिलिवर कहां से किया गया है। बता दें कि अंपायर ने इस गेंद पर महमदुल्लाह को एलबीडब्लू दे दिया था, लेकिन बाद में थर्ड अंपायर ने फैसला बदल दिया था।  

मैच में हुआ था ऐसा
टी20 वर्ल्ड कप के इस एडिशन में आईसीसी के एक विवादास्पद नियम के कारण बांग्लादेश ने लेग बाय के चार रन गंवाए जब ओटनील बार्टमैन की गेंद पर अंपायर सैम नोगास्की ने महमूदुल्लाह को पगबाधा आउट दिया। गेंद बाउंड्री के पार चली गई लेकिन महमूदुल्लाह के डीआरएस लेने के कारण इसे ‘डेड’ (जिस पर रन नहीं बन सकते) माना गया। महमूदुल्लाह तो नॉटआउट करार दिए गए लेकिन बांग्लादेश ने चार रन गंवा दिए। आईसीसी के नियमों के अनुसार अगर मैदानी अंपायर बल्लेबाज को पगबाधा आउट देता है तो तीसरे अंपायर द्वारा फैसला पलटने की स्थिति में भी कोई अतिरिक्त रन (लेग बाय या बाय) नहीं मिलेगा। बांग्लादेश को नहीं मिले चार रन के बारे में पूछने पर बांग्लादेश के युवा बल्लेबाज हृदय ने कहा कि ईमानदारी से कहूं तो यह एक अच्छा फैसला नहीं था। यह एक कड़ा मुकाबला था। मेरे दृष्टिकोण से, अंपायर ने आउट दिया, लेकिन यह हमारे लिए थोड़ा मुश्किल है क्योंकि उन चार रन से मैच का सिनैरियो बदल जाता। उन्होंने कहा कि मेरे पास इसके बारे में कहने के लिए कुछ नहीं है।

कुछ वाइड रन भी नहीं मिले
हालांकि 23 वर्षीय हृदय ने इस सवाल को टाल दिया कि वह नियम से सहमत हैं या नहीं। हृदय ने कहा कि देखिए, नियम आईसीसी ने बनाए हैं जो मेरे हाथ में नहीं है लेकिन उस समय वे चार रन हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण थे। मुझे लगता है कि अंपायर ने फैसला सुनाया है और अंपायर फैसला सुना सकते हैं। वे भी इंसान हैं और उनसे गलती हो सकती है। उन्होंने कहा कि लेकिन हमें दो-तीन और वाइड मिलने चाहिए थे जिन्हें नहीं दिया गया। इसलिए इस तरह के मैच में, जहां कम स्कोर वाले मैच में मुश्किल से रन बनते हैं, वहां एक या दो रन बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। इस बल्लेबाज ने कहा कि यहां तक ​​कि मेरा आउट भी अंपायर्स कॉल था। इसलिए मुझे लगता है कि इन क्षेत्रों में सुधार की गुंजाइश है।