DA Image
26 जनवरी, 2021|8:50|IST

अगली स्टोरी

नटराजन बोले- बच्चे के जन्म के समय मौजूद नहीं रहना बहुत मुश्किल था, लेकिन देश के लिए खेलता देख मेरी पत्नी खुश थी

t natarajan  instagram

टीम इंडिया के तेज गेंदबाज टी नटराजन के लिए हाल में खत्म हुआ ऑस्ट्रेलिया दौरा किसी सुनहरे सपने से कम नहीं था। ऑस्ट्रेलिया दौरे पर क्रिकेट के तीनों फॉर्मैट में इंटरनैशनल डेब्यू करने वाले नटराजन पहले भारतीय खिलाड़ी बने। नटराजन नवंबर में पिता बने थे, लेकिन अपनी बेटी से पहली बार मिलने के लिए उन्हें तीन महीने का लंबा इंतजार करना पड़ा। नटराजन ने कहा कि अपने बच्चे के जन्म के समय मौजूद नहीं होना काफी मुश्किल था, लेकिन उनकी पत्नी और परिवार इस बात से खुश थे कि वह देश के लिए खेल रहे हैं।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन मैचों की वनडे इंटरनैशनल सीरीज के आखिरी मैच में नटराजन को डेब्यू करने का मौका मिला। नटराजन ने ऑस्ट्रेलिया दौरे को याद करते हुए कहा, 'मुझे अचानक एक मौका दिया गया। मुझे उम्मीद नहीं थी कि कैनबरा में मेरा वनडे क्रिकेट में डेब्यू होगा। टीम मैनेजमेंट ने अचानक मुझसे कहा कि मैं मैच खेल रहा हूं। इससे मैं दबाव में था, लेकिन मैं इस मौके का फायदा उठाना चाहता था, इसलिए मैंने इस ओर फोकस किया। इस मैच में पहला विकेट और उसके बाद जो कुछ हुआ वो मेरे लिए एक सपने जैसा है।'

एंडरसन ने झटके 6 विकेट, जाफर ने MEME के जरिए टीम इंडिया को दी नसीहत

'बच्चे के जन्म के समय मौजूद नहीं होना मुश्किल था'

बाएं हाथ के तेज गेंदबाज नटराजन ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी-20 क्रिकेट में डेब्यू करने और तीन मैचों की इस सीरीज में छह विकेट लेकर सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज  बनने पर कहा, 'मुझे उम्मीद नहीं थी कि विराट कोहली मेरे पास आएंगे और मुझे ट्रॉफी सौंपेंगे। मैं एक किनारे पर खड़ा था, लेकिन जब विराट जैसा दिग्गज खिलाड़ी मेरे पास आया और मुझे ट्रॉफी दी तो बहुत अच्छा लगा। मैं इसको शब्दों में बयां नहीं कर सकता। मेरी आंखों से तो आंसू निकल आए। अपने बच्चे के जन्म के समय मौजूद न रहना भी काफी मुश्किल था, लेकिन मुझे देश का प्रतिनिधित्व करते देख मेरी  पत्नी और मेरे परिवार को बहुत खुशी हुई।'

रूट ने बताया भारत को उसकी सरजमीं पर हराने के लिए क्या-क्या करना होगा

'ऑस्ट्रेलिया दौरे पर चुना जाना मेरे लिए गिफ्ट था'

नटराजन ने ऑस्ट्रेलिया से लौटने के बाद अपने सलेम जिला स्थित चिन्नापम्पत्ति गांव पहुंचने की यात्रा के बारे में कहा, 'मुझे इस तरह के  स्वागत की कभी उम्मीद नहीं थी। मुझे अपने गांव के लोगों का धन्यवाद करना है। यह मेरे जीवन का एक कभी ना भुलाने वाला अनुभव था और सलेम को पहचान दिलाने की उम्मीद से मैंने इसे बड़ा बनाने का सपना देखा। यह सब भगवान की कृपा है और अब मेरी खुशी का कोई ठिकाना नहीं है। मुझे ऐसा लगता है कि ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए चुना जाना मेरे लिए एक गिफ्ट था।' गौरतलब है कि नटराजन को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कैनबरा में तीसरे वनडे इंटरनैशनल मैच में डेब्यू करने का मौका मिला था। फिर उन्हें कई खिलाड़ियों के चोटिल होने के बाद गाबा में खेले गए टेस्ट सीरीज के निणार्यक मैच में टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने का मौका  मिला, हालांकि इस बीच उन्हें अपने बच्चे के जन्म के समय जैसे यादगार पल को गंवाना पड़ा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:T Natarajan said It was very difficult to not be present when my child was born but my wife was happy to see me playing for the country