फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटश्रेयस अय्यर और शुभमन गिल से नाराज हैं सुनील गावस्कर, मैच के बाद ऐसे लगाई लताड़

श्रेयस अय्यर और शुभमन गिल से नाराज हैं सुनील गावस्कर, मैच के बाद ऐसे लगाई लताड़

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर नंबर चार के बल्लेबाज श्रेयस अय्यर और शुभमन गिल से नाराज हैं। उन्होंने मैच के बाद इन खिलाड़ियों को लताड़ भी लगाई है और कहा कि वे अपना विकेट फेंक रहे हैं। 

श्रेयस अय्यर और शुभमन गिल से नाराज हैं सुनील गावस्कर, मैच के बाद ऐसे लगाई लताड़
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 20 Oct 2023 01:00 PM
ऐप पर पढ़ें

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर भारतीय बल्लेबाज श्रेयस अय्यर और शुभमन गिल से खुश नहीं हैं। गिल ने भले ही अर्धशतक बांग्लादेश के खिलाफ जड़ा, लेकिन गावस्कर का मानना है कि इन दोनों खिलाड़ियों ने अपना धैर्य खो दिया और विकेट गंवा दिया। हालांकि, विराट कोहली ने दमदार शतक जड़कर टीम को जीत दिलाई। वहीं, रोहित शर्मा ने टीम इंडिया को एक बार फिर से अच्छी शुरुआत दिलाई। 

श्रेयस अय्यर ओपनर शुभमन गिल की जगह बल्लेबाजी करने उतरे, जो अर्धशतक बनाकर पवेलियन लौटे। गिल लॉन्ग-ऑन को क्लियर करने के चक्कर में आउट हो गए। वहीं, अय्यर, जो लगातार कोहली के साथ सिंगल्स और डबल्स का फायदा उठा रहे थे, उन्होंने भी अपना धैर्य खो दिया। उन्होंने एक हवाई शॉट खेलने का प्रयास किया, जिसका परिणाम ये रहा कि वे भी महमुदुल्लाह के हाथों कैच आउट हो गए। 

इस पर गावस्कर ने स्टार स्पोर्ट्स पर कहा, "उन्होंने (श्रेयस अय्यर) अपना धैर्य खो दिया। वह 19 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे और उन्होंने अपना विकेट फेंक दिया। शुभमन गिल (52) अर्धशतक पर बल्लेबाजी कर रहे थे, उन्होंने भी अपना विकेट फेंक दिया। आपको यह जानना होगा कि शतक कैसे बनाया जाए। शुभमन गिल कम से कम शतक बना रहे हैं, श्रेयस अय्यर शतक नहीं बना रहे हैं। उन्हें इस तरह की अच्छी पिचों और इतने कमजोर गेंदबाजी के खिलाफ नंबर 4 पर बल्लेबाजी करने का मौका मिल रहा है और वह इस मौके को गंवा रहे हैं।" 

हार्दिक पांड्या हुए न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड कप मैच से बाहर, बीसीसीआई ने किया कन्फर्म

सुनील गावस्कर भारतीय बल्लेबाज विराट कोहली से काफी प्रभावित नजर आए, जिन्होंने 48वां ODI शतक जड़ा और वे सचिन तेंदुलकर के करीब पहुंच गए। उन्होंने कहा, "कोहली ऐसा कभी नहीं करते। कोहली शायद ही कभी अपना विकेट फेंकेंगे। वह आपको अपना विकेट दिलवाते हैं। और यह वही है जिसकी आपको आवश्यकता है। जब वह 70-80 रन पर पहुंच गए तो उन्हें एहसास हुआ कि उनके पास शतक बनाने का अवसर है और क्यों नहीं? शतक रोज नहीं बनते।" 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें