DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   क्रिकेट  ›  कौन सी पिच है सबसे खतरनाक, सुनील गावस्कर के जवाब में पर्थ, सबीना और गाबा का नाम नहीं
क्रिकेट

कौन सी पिच है सबसे खतरनाक, सुनील गावस्कर के जवाब में पर्थ, सबीना और गाबा का नाम नहीं

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Mohan Kumar
Mon, 14 Jun 2021 12:56 PM
कौन सी पिच है सबसे खतरनाक, सुनील गावस्कर के जवाब में पर्थ, सबीना और गाबा का नाम नहीं

भारत समेत एशिया के लगभग सभी देशों में टेस्ट मैचों के लिए स्पिनरों की मददगार पिच बनाई जाती है और यही वजह है विदेशी टीमों को यहां स्पिन खेलने में अच्छी खासी मशक्कत करनी पड़ती है। ऐसा बहुत ही कम बार देखा गया है, जब भारत में खेले गए टेस्ट मैच में स्पिनरों के मुकाबले तेज गेंदबाजों को ज्यादा मदद मिली हो। एक ऐसा ही वाकया चेन्नई में हुआ था और इसको लेकर भारत के महान क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने अपने अनुभव शेयर किए हैं। उन्होंने यहां की पिच पर बल्लेबाजी करने को सबसे ज्यादा मुश्किल बताया।

आकाश चोपड़ा ने बताया, ओपनर के तौर पर इंग्लैंड में इतने शतक जड़ सकते हैं रोहित शर्मा

टेस्ट क्रिकेट में 10 हजार से ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज गावस्कर ने 'द क्रिकेट एनालिस्ट पोडकास्ट' में कहा कि, '1978 में वेस्टइंडीज टीम के खिलाफ चेन्नई की पिच पर खेला गया मैच मेरे करियर के सबसे मुश्किल मैचों में से एक है। मैंने अपने करियर में जितनी भी पिच पर खेला, यह उनमें सबसे तेज थी। मैंने वेस्टइंडीज के सबीना पार्क में बैटिंग की है, जहां गेंद लगातार आपके सर के ऊपर से उड़ती हुई निकलती थी। ऑस्ट्रेलिया की तेज उछाल वाली पर्थ की पिच और गाबा की पिच पर बल्लेबाजी की है, जहां गेंद बेहद तेज गति से आपकी ओर आती है। लेकिन चेन्नई की वो पिच इन सबमें सबसे तेज पिच थी, जहां मैंने बल्लेबाजी की।'

'तेरा काम हो गया तू जा', वसीम जाफर ने मजेदार तरीके से किया माइकल वॉन को ट्रोल, फैन्स बोले- उन्हें इस काम के पैसे मिलने चाहिए

गावस्कर के दौर में सबसे बेहतरीन ऑलराउंडर्स में कपिल देव, इमरान खान, इयान बॉथम और रिचर्ड हैडली का नाम शामिल था। यहां उनसे पूछा गया कि उनकी नजर में सबसे बेहतरीन ऑलराउंडर कौन रहा है। इसके जवाब में भारत के पूर्व कप्तान ने वेस्टइंडीज के महान क्रिकेटर सर गारफील्ड सोबर्स का नाम लिया और उन्हें दुनिया का सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर बताया। उन्होंने कहा कि, 'सोबर्स बल्लेबाजी के दौरान बहुत तेजी के साथ गेम को अपनी टीम के पक्ष में रखने का दम रखते थे। इसके अलावा उनकी गेंदबाजी और फील्डिंग का भी कोई सानी नहीं था।'

संबंधित खबरें