फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटरविंद्र जडेजा की खराब फॉर्म पर सुनील गावस्कर आलोचकों पर भड़के, कहा- प्लेइंग इलेवन में उसकी जगह पर सवाल नहीं उठा सकते

रविंद्र जडेजा की खराब फॉर्म पर सुनील गावस्कर आलोचकों पर भड़के, कहा- प्लेइंग इलेवन में उसकी जगह पर सवाल नहीं उठा सकते

सुनील गावस्कर का मानना है कि दो खराब मैच के बाद रविंद्र जडेजा के फॉर्म को लेकर सवाल खड़े करना उचित नहीं है। जडेजा जारी टूर्नामेंट में बैट और बल्ले से कमाल नहीं दिखा सके हैं।

रविंद्र जडेजा की खराब फॉर्म पर सुनील गावस्कर आलोचकों पर भड़के, कहा- प्लेइंग इलेवन में उसकी जगह पर सवाल नहीं उठा सकते
Himanshu Singhलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 25 Jun 2024 07:37 PM
ऐप पर पढ़ें

भारतीय टीम के स्टार ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा का फॉर्म टीम के लिए चिंता का विषय हो गया है। जडेजा ने टी20 विश्व कप 2024 में सभी मुकाबले खेले हैं लेकिन उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर सके हैं। उन्होंने 6 मैचों की तीन पारियों में बल्लेबाजी की और 0,7 और 9 रन ही बना सके हैं। इस दौरान उन्होंने सिर्फ एक विकेट झटका है, जिसकी वजह से टी20 टीम में उनकी जगह पर सवाल खड़े हो रहे हैं। हालांकि दिग्गज सुनील गावस्कर की राय इससे अलग है। उन्होंने जडेजा का समर्थन किया। 

सुनील गावस्कर का मानना ​​है कि जडेजा और उनके खराब फॉर्म को लेकर हो रही चर्चा अनावश्यक है और उन्होंने भारत की अंतिम एकादश में जडेजा के स्थान पर संदेह करने वालों पर सवाल उठाया।

सुनील गावस्कर ने स्टार स्पोर्ट्स से कहा, ''मुझे नहीं लगता कि हमें सवाल पूछने के बारे में सोचना चाहिए। भारत और भारतीय फैंस के साथ समस्या ये हैं कि दो खराब गेम के बाद सवाल उठने लगते हैं, इसका क्या करना है? आप जानते हैं कि यही चिंता का विषय है। ये सवाल पूछने वाला कोई भी व्यक्ति अपने पेशे के बारे में नहीं सोचता, चाहे उसने दो गलतियां की हों या नहीं और क्या लोग उसके पेशे में उसकी जगह पर सवाल उठा रहे हैं, चाहे वह किसी भी पेशे में हो। आप प्लेइंग इलेवन में जडेजा की जगह पर सवाल नहीं उठा सकते। वह एक रॉक स्टार है।''

जीत के जश्न में डूबा अफगानिस्तान, सड़कों पर हजारों की संख्या में उमड़ा लोगों का हुजूम, देखिए वीडियो

उन्होंने आगे कहा, ''मैं बिलकुल चिंतित नहीं हूं, क्योंकि वह काफी अनुभवी हैं। जो भी मौके उन्हें मिले हैं, उन्होंने अच्छा किया है और ये मत भूलिए मैदान पर वह फील्डिंग के दौरान 20-30 रन बचाते हैं। फिर वह मैदान में आते हैं और बल्ले और गेंद से जो कुछ भी करता है, वह उसकी क्षमता दिखाता है।"