फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटश्रीलंका के खेल मंत्री रोशन राणासिंघे ने आईसीसी के फैसले पर उठाए सवाल, कहा- क्रिकेट बोर्ड पर आईसीसी निलंबन अवैध

श्रीलंका के खेल मंत्री रोशन राणासिंघे ने आईसीसी के फैसले पर उठाए सवाल, कहा- क्रिकेट बोर्ड पर आईसीसी निलंबन अवैध

आईसीसी ने राजनीतिक हस्तक्षेप का हवाला देते हुए श्रीलंका क्रिकेट के प्रशासन को निलंबित कर दिया था। श्रीलंका के खेल मंत्री राणासिंघे ने कहा कि वह अगले हफ्ते आईसीसी अधिकारियों से मिलने दुबई रवाना होंगे।

श्रीलंका के खेल मंत्री रोशन राणासिंघे ने आईसीसी के फैसले पर उठाए सवाल, कहा- क्रिकेट बोर्ड पर आईसीसी निलंबन अवैध
Himanshu Singhएजेंसी,कोलंबोSat, 11 Nov 2023 09:34 PM
ऐप पर पढ़ें

श्रीलंका के खेल मंत्री रोशन राणासिंघे ने शनिवार को कहा कि राष्ट्रीय क्रिकेट बोर्ड पर राजनीतिक हस्तक्षेप के कारण अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) द्वारा लगाया गया निलंबन अवैध है और वह इसके बदलवाने की कोशिश करेंगे। श्रीलंका के खेल मंत्री रोशन राणासिंघे ने पत्रकारों से कहा कि अगर वह आईसीसी की मतभेद निवारण संस्था के जरिए इस मुद्दे का निपटारा नहीं कर पाते हैं तो वह स्विट्जरलैंड में खेल पंचाट का दरवाजा खटखटाएंगे।

राणासिंघे ने कहा कि आईसीसी निलंबन अपने ही नियमों के खिलाफ है और संस्था को पहले अन्य सदस्यों की मंजूरी लेनी चाहिए। आईसीसी ने शुक्रवार को राजनीतिक हस्तक्षेप का हवाला देते हुए श्रीलंका क्रिकेट के प्रशासन को निलंबित कर दिया था।

इस हफ्ते के शुरू में खेल मंत्रालय ने भारत में चल रहे विश्व कप में टीम के खराब प्रदर्शन के कारण राष्ट्रीय बोर्ड को बर्खास्त कर दिया था। मंत्रालय ने बोर्ड पर भ्रष्टाचार का भी आरोप लगाया था। फिर अदालत ने मंत्रालय के फैसले को पलट दिया था और आईसीसी का कार्रवाई करने के लिए यह भी आधार था। श्रीलंका को जनवरी में अंडर-19 पुरुष विश्व कप की मेजबानी करनी है।

IND vs NZ : सेमीफाइनल में भारत से होगी न्यूजीलैंड की भिड़ंत, पाकिस्तान नहीं कर सका क्वॉलिफाई

श्रीलंका क्रिकेट प्रमुख शम्मी सिल्वा ने पत्रकारों से कहा कि वह अगले हफ्ते आईसीसी अधिकारियों से मिलने दुबई रवाना होंगे लेकिन इस बातचीत से पहले वह सरकार से आश्वासन चाहेंगे कि बोर्ड के मामलों में कोई राजनीतिक हस्तक्षेप नहीं होगा। उन्होंने भ्रष्टाचार के आरोपों को खारिज किया।

श्रीलंका की संसद द्वारा पारित प्रस्ताव सरकार के हस्तक्षेप दर्शाता है जो आईसीसी बोर्ड द्वारा श्रीलंका की सदस्यता निलंबित करने के लिए पर्याप्त आधार था। भारत में चल रहे विश्व कप में श्रीलंका के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद कई घटनाक्रम देखने को मिले। श्रीलंकाई टीम नौ में से केवल दो मैच में ही जीत हासिल कर सकी।