फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ क्रिकेटवीरेंद्र सहवाग के बयान से शोएब अख्तर को लग सकती है 'आग', बॉलिंग एक्शन को लेकर किया यह कमेंट

वीरेंद्र सहवाग के बयान से शोएब अख्तर को लग सकती है 'आग', बॉलिंग एक्शन को लेकर किया यह कमेंट

वीरेंद्र सहवाग ने का मानना है कि शोएब अख्तर को खुद पता था कि उनका बॉलिंग एक्शन ठीक नहीं था। वीरेंद्र सहवाग ने कहा कि अगर उनका बॉलिंग एक्शन ठीक होता, तो आईसीसी उन्हें बैन ही क्यों करता।

वीरेंद्र सहवाग के बयान से शोएब अख्तर को लग सकती है 'आग', बॉलिंग एक्शन को लेकर किया यह कमेंट
Namita Shuklaलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीTue, 17 May 2022 05:55 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग अपनी धाकड़ बल्लेबाजी और बेबाक बयानबाजी के लिए हमेशा से चर्चा में रहे हैं। इसके अलावा सहवाग और पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर के बीच मैदान के अंदर-बाहर छिंटाकशी भी काफी चर्चा में रही है। वीरू ने अब कुछ ऐसी बातें कही हैं, जिसे सुनकर शोएब अख्तर को आग लग सकती है। सहवाग ने कहा कि अख्तर को खुद मालूम था कि वह चक्का गेंद फेंकते हैं और उनका बॉलिंग एक्शन ठीक नहीं था।

मैथ्यूज के शतक पर ग्रहण बने थे सचिन और धोनी, ऐसे किया था आउट- Video

स्पोर्ट्स18 के शो 'होम ऑफ हीरोज' में संजय मांजरेकर से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा, 'शोएब को पता था कि उनकी कोहनी मुड़ती है और वह चक्का गेंद फेंकते हैं। वरना आईसीसी ने उन्हें बैन क्यों किया होता? ब्रेट ली का हाथ सीधा आता था, तो उनकी गेंद को पकड़ पाना आसान होता था, लेकिन शोएब के साथ ऐसा नहीं था आपको पता ही नहीं चलता कि कहां से उनका हाथ आ रहा है और गेंद कहां से आएगी।'

लिविंगस्टोन की बॉलिंग देखकर जाफर को क्यों याद आए गुरमीत राम रहीम सिंह

सहवाग ने कहा कि उन्हें न्यूजीलैंड के पूर्व तेज गेंदबाज शेन बॉन्ड की गेंदों का सामना करना सबसे मुश्किल लगता था। उन्होंने कहा, 'उनकी गेंद स्विंग करते हुए आपके शरीर के पास आती थी, ऐसा तब भी होता था, जब वह आउटसाइड ऑफ स्टंप गेंदबाजी भी करते थे। मुझे कभी ब्रेट ली की गेंदों का सामना करने में कभी डर नहीं लगा। लेकिन शोएब के साथ यह पता नहीं चलता था कि वह क्या करेगा अगर मैं तो गेंद पर उसकी बाउंड्री ठोक दूं। शायद बीमर फेके या फिर पैर पर यॉर्कर गेंद फेंक दे।' सहवाग ने अख्तर की गेंदों की खूब धुनाई की है।

सहवाग ने कहा, 'सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, वीवीएस लक्ष्मण और सौरव गांगुली सभी 150-200 बॉल पर शतक लगाते थे, अगर मैं इतनी गेंदों पर शतक लगाता तो कोई मुझे याद नहीं रखता। अपनी अलग पहचान बनाने के लिए मुझे तेजी से रन बनाने थे।'

epaper