DA Image
हिंदी न्यूज़ › क्रिकेट › शिखर धवन ने बताया- क्यों उन्हें अपने सिर पर बाल बिल्कुल पसंद नहीं
क्रिकेट

शिखर धवन ने बताया- क्यों उन्हें अपने सिर पर बाल बिल्कुल पसंद नहीं

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Namita
Fri, 10 Apr 2020 02:41 PM
शिखर धवन ने बताया- क्यों उन्हें अपने सिर पर बाल बिल्कुल पसंद नहीं

टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन 'लॉकडाउन' के दौरान अपने फैन्स का पूरा ख्याल रख रहे हैं। वो कभी अपनी पत्नी के साथ मजेदार वीडियो शेयर करते हैं, तो कभी इंस्टाग्राम लाइव चैट के जरिए फैन्स से जुड़ते हैं। धवन ने गुरुवार (9 अप्रैल) को इंस्टाग्राम के जरिए अपने फैन्स के सवालों के जवाब भी दिए। 'पूछो जो पूछना है' सेशन में धवन ने अपने बारे में कुछ मजेदार बातों का भी खुलासा किया, उसमें से एक यह रहा कि वो क्यों अपने सिर पर बाल नहीं रखते हैं।

कोरोना के खिलाफ जंग में उतरे अमित मिश्रा,दिल्ली पुलिस को कहा- शुक्रिया

धवन ने एक फैन ने सवाल किया, 'आप अपने सिर के बाल क्यों नहीं बढ़ाते हैं?' इस पर धवन ने जवाब में लिखा, 'क्योंकि मैं बिना बालों के ज्यादा अच्छा लगता हूं और शैम्पू भी कम लगता है।' धवन ने इस दौरान और भी मजेदार सवालों के जवाब दिए। एक फैन ने उनसे पूछा कि आप इतनी अच्छी बल्लेबाजी कैसे कर लेते हैं, जिस पर धवन का जवाब था- बैट से। 

सचिन तेंदुलकर vs विराट कोहलीः क्लार्क ने बताई दोनों में एक खास समानता

धवन ने टीम इंडिया की ओर से कुल 34 टेस्ट मैच, 136 वनडे इंटरनेशनल और 61 टी20 इंटरनेशनल मचै खेले हैं। धवन ने 2315 टेस्ट, 5688 वनडे इंटरनेशनल और 1588 टी20 इंटरनेशनल रन बनाए हैं। धवन को 'गब्बर' के नाम से जाना जाता है। उन्होंने इस सेशन में यह भी बताया कि उनका नाम गब्बर किसने रखा। धवन ने बताया कि उनके रणजी कोच विजय दाहिया ने उनको यह नाम दिया था। कोविड-19 महामारी (कोरोना वायरस संक्रमण) के चलते पूरी दुनिया के स्पोर्ट्स इवेंट्स या तो रद्द या फिर स्थगित कर दिए गए हैं।

shikhar dhawan insta story
shikhar dhawan

भारत में भी 24 मार्च को 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा की गई थी। लॉकडाउन 14 अप्रैल तक है, लेकिन मौजूदा हालात देखकर ऐसा लग रहा है कि सरकार को यह लॉकडाउन और आगे बढ़ाना पड़ेगा। भारत में इस महामारी से 6400 से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 199 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। पूरी दुनिया में 1.6 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 90,000 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। 
 

संबंधित खबरें