DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   क्रिकेट  ›  मोंटी पनेसर ने हेड कोच रवि शास्त्री को दिया टीम इंडिया की कामयाबी का श्रेय, सलमान बट ने किया पलटवार

क्रिकेटमोंटी पनेसर ने हेड कोच रवि शास्त्री को दिया टीम इंडिया की कामयाबी का श्रेय, सलमान बट ने किया पलटवार

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Mohan Kumar
Tue, 01 Jun 2021 11:44 AM
मोंटी पनेसर ने हेड कोच रवि शास्त्री को दिया टीम इंडिया की कामयाबी का श्रेय, सलमान बट ने किया पलटवार

पिछले कुछ सालों में भारतीय क्रिकेट को बुलंदियों पर ले जाने में टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री का बहुत रोल रहा है। उनकी और कप्तानी विराट कोहली की जोड़ी ने भारत को ऐसी कई उपलब्धियां दिलाई में अहम भूमिका निभाई है, जो उनसे पहले कोई नहीं हासिल कर सका। इन दोनों खिलाड़ियों के योगदान को लेकर पाकिस्तान के पूर्व बल्लेबाज सलमान बट और इंग्लैंड के पूर्व स्पिनर मोंटी पनेसर आपस में उलझ गए। पनेसर ने कुछ दिन पहले कहा था कि टीम इंडिया की कामयाबी में कोच रवि शास्त्री का बड़ा रोल है, लेकिन सलमान की राय उनसे एकदम जुदा है।

टीम इंडिया की बढ़ी मुश्किलें, स्टार तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार में दिखे कोरोना के लक्षण

उन्होंने अपने यूट्यूब चैनल पर पनेसर को जवाब देते हुए कहा है कि, 'टीम इंडिया की कामयाबी में सिर्फ हेड कोच रवि शास्त्री का नहीं, बल्कि विराट कोहली समेत पूरी टीम के खिलाड़ियों का भी अहम योगदान है। इस तरह के बयानों का कोई मतलब नहीं होता और न ही कोई तर्क होता है।' उन्होंने यहां पनेसर से पूछा कि कैसे एक टीम की सफलता में सिर्फ कोच का योगदान हो सकता है। उन्होंने कहा कि, 'भारतीय टीम में सबसे बड़े खिलाड़ी के रूप में विराट कोहली मौजूद हैं और बाकी खिलाड़ियों ने भी टीम की बड़ी उपलब्धियों में अहम योगदान दिया है। हमें इस तरह के बयान सुनने ही नहीं चाहिए।'

भारतीय टीम के ट्रेनर ने बताया, कैसे क्वारंटाइन में खुद को तैयार कर रहे खिलाड़ी

विराट के बिना भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जीती ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज

उल्लेखनीय है कि टीम इंडिया ने कुछ महीनों पहले ऑस्ट्रेलिया को चार मैचों की टेस्ट सीरीज में उन्हीं के घर में 2-1 से पटखनी दी थी। टीम की यह जीत इसलिए स्पेशल है, क्योंकि सीरीज के पहले मैच के बाद नियमित कप्तान विराट कोहली वापस भारत लौट गए थे और टीम को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा था। यहां से टीम ने कार्यवाहक कप्तान अजिंक्य रहाणे की कप्तानी में न केवल धमाकेदार वापसी की, बल्कि युवा खिलाड़ियों के दम पर इतिहास रचते हुए ऑस्ट्रेलिया में लगातार दूसरी बार बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी पर कब्जा जमाया।

संबंधित खबरें